Biography Jayanti

डॉ भीमराव आंबेडकर जीवनी , B. R. Ambedkar जयंती 2021

डॉ भीमराव आंबेडकर जीवनी

Ambedkar Jayanti 2021 , डॉ ब्र आंबेडकर जयंती २०१९ , डॉ भीमराव आंबेडकर जीवनी , B. R. Ambedkar , डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जयंती , डॉ भीमराव आंबेडकर जन्म ,  B. R. Ambedkar  प्रारंभिक जीवन , Ambedkar शिक्षा , धर्म, समाज और राजनीति ,डॉ भीमराव आंबेडकर जीवनी

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जयंती: – अम्बेडकर जयंती हर साल भारत में 14अप्रैल को मनाई जाती है। इस शुभ दिन पर हमें डॉ. बाबा साहब अंबेडकर के योगदानों की याद आती है। डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को दलितों का भगवान माना जाता हैं क्योंकि वे हमेशा उनकी मदद के लिए तैयार रहते थे। डॉ. भीमराव अंबेडकर का सबसे बड़ा देन दलितों को समाज में समान अधिकार, प्रतिष्ठा और सम्मान प्राप्त करवाने में सहायता थी। डॉ. भीमराव अंबेडकर भारत के इतिहास के महानतम नेताओं में से एक हैं।

डॉ भीमराव आंबेडकर जन्म:- डॉक्टर भीमराव अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल, 1990 को  मध्य प्रदेश में हुआ था। हुआ था, इसलिए हम इस दिन को अंबेडकर जयंती के रूप में मनाते हैं। भीमबाई और रामजी मालोजी शकपाल आंबेडकर के माता-पिता थे। डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को ज्यादातर “बाबा साहेब” के रूप में जाना जाता है। 

Gas Subsidy Kaise Check , गैस सिलेंडर कितने का है सब्सिडी वाला

B. R. Ambedkar  प्रारंभिक जीवन :- डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ने खुद अपने जीवन में बहुत अन्यायों का सामना किया है। उनकी शिक्षा-यात्रा औरों से अधिक सरल नहीं थी। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद दलित समाज को अछूत माना जाता था।वे सभी जगह भेदभाव का सामना कर रहे थे।डां. बाबा साहब अंबेडकर ने आगे आकर उनसे लड़ाई लड़ी और दलितों को अपनी समान स्वतंत्रता का अधिकार दिया।

Ambedkar शिक्षा:- भारत में पूर्ण शिक्षा पाने वाले डां. भीमराव अम्बेडकर पहले दलितों में थे। उन्होंने राजनीति विज्ञान, अर्थशास्त्र और कानून में डिग्री हासिल की थी। वे महान वकील, लेखक, इतिहासकार तथा एक महान राजनीतिक नेता भी थे।

Google Drive Kya Hai , गूगल ड्राइव का इस्तेमाल कैसे करें

धर्म, समाज और राजनीति:- डॉ. अंबेडकर भारत के इतिहास के महानतम नेताओं में से एक थे। हमें भारतीय कानून और संविधान में उनके योगदान के प्रति सम्मान और श्रद्धांजलि अर्पित करनी चाहिए। उनके कारण बहुत से विद्यार्थी भारत में कम शिक्षा प्राप्त करने में सफल रहे हैं।ऐसे लोग भी हैं जो आर्थिक दृष्टि से पिछड़े हैं और उच्च स्तरीय संस्थान में शिक्षा बर्दाश्त नहीं कर सकते, लेकिन वे अपने बच्चों के लिए भी अच्छी गुणवत्ता की शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं जिससे भारत का भविष्य सुरक्षित है।

अतः कहा जा सकता है कि भारत के संविधान एवं भारत के दलित इतिहास में पहले व्यक्ति थे जिन्होंने ना सिर्फ दलितों के लिए बल्कि समाज के उन सभी पिछड़े वर्गों के लिए लड़ाई किया और इस मुकाम तक पहुंचे कि आज उनको याद उनके योगदान के कारण किया जाता है एवं उनके द्वारा किए गए योगदान हमारे लिए हमेशा हमेशा के लिए माननीय रहेंगे शायद यही कारण है कि डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की जयंती को जन्मदिवस को हम एक जयंती के रूप में मनाते हैं।

Get 90% OFF On All 1 Year Hosting Plan Buy Now
लेटेस्ट अपडेट पाने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करें Subscribe Now
अब आप  फॉलो को Google News App पर Follow Now
कैसा लगा हमारा ये आलेख, अगर आपको अच्छा लगे तो अपने दोस्तों के साथ इस पोस्ट को शेयर जरूर करें

2 Comments

  • पूरा नाम बाबासाहेब डॉ. भीमराव आम्बेडकर
    अन्य नाम बाबासाहेब
    जन्म 14 अप्रैल, 1891
    जन्म भूमि मऊ, मध्य प्रदेश
    मृत्यु 6 दिसंबर, 1956
    मृत्यु स्थान दिल्ली
    मृत्यु कारण स्वास्थ्य ख़राब
    अभिभावक पिता- रामजी मालोजी सकपाल, माता- भीमाबाई मुरबादकर
    पति/पत्नी रमाबाई
    नागरिकता भारतीय
    पार्टी स्वतंत्र लेबर पार्टी
    पद अध्यक्ष- स्वतंत्र लेबर पार्टी
    शिक्षा एम.ए. (अर्थशास्त्र), पी एच. डी., एम. एस. सी., बार-एट-लॉ

Leave a Comment

You cannot copy content of this page