Trending News

कोरोना वायरस को लेकर गलतफहमियां

कोरोना वायरस को लेकर गलतफहमियां

कोरोना वायरस (COVID-19) के शुरूआती लक्षण, बचाव कैसे करें, कोरोना वायरस के बारें में पाए पूरी जानकारी,कोरोना वायरस का पता चलने पर क्या करें ,कोरोना वायरस से आप अपनी रक्षा कैसे करें , महीने में कोरोना का इलाज ढूंढ, क्या गर्मी बढ़ने से खत्म हो जाएगा कोरोना, कोरोना वायरस क्या गर्मी से मर जाता है, कोरोना वायरस को लेकर स्थिति, कोरोना वायरस से जुड़ी गलतफहमियां, कोरोना वायरस केवल मुसीबत लेकर नहीं आया है, कोरोना वायरस को लेकर हुई गलतफहमी, शख्स ने कर, स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना पर प्रेस,

क्या है कोरोना वायरस:- कोरोना वायरस का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है. इस वायरस को पहले कभी नहीं देखा गया है. इस वायरस का संक्रमण दिसंबर में चीन के वुहान में शुरू हुआ था. डब्लूएचओ के मुताबिक, बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं. अब तक इस वायरस को फैलने से रोकने वाला कोई टीका नहीं बना है|

कोरोना वायरस कैसे फैलता है , corona virus kaise failta hai

कोरोना वायरस को लेकर गलतफहमियां :-
दुनियाभर में कोरोना वायरस का कहर अभी भी जारी है इस खतरनाक वायरस की वजह से 4600 से ज्यादा लोगों की जान चली गई है, जबकि 1 लाख से ज्यादा लोग इससे अभी भी संक्रमित है विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) कोरोना वायरस को महामारी घोषित कर चुका है. वहीं कोरोना वायरस को लेकर लोगों के मन में कई तरह की गलतफहमियां भी चल रही है, जिसको WHO ने दूर किया है आइए हम आपको इसके बारे में बताते है |

1.) गर्म और उमस भरे वातारवरण में नहीं फैलता कोरोना :- WHO ने कहा है कि ये सिर्फ एक कल्पना है कोरोना वायरस किसी भी वातावरण में फैल सकता है ये गर्म और उमस भरे वातावरण में भी फैल सकता है इस बारे में WHO ने कहा है कि वातावरण पर ध्यान ना दें और अपने आपको सुरक्षित रखने के लिए स्वच्छता मेंटेन करके रखे |

2.) ठंडा मौसम और बर्फ कोरोना वायरस को खत्म कर देता है :- WHO के मुताबिक ये एक गलतफहमी है ठंड का मौसम या फिर बर्फ में कोरोना वायरस या फिर किसी और बीमारी को खत्म नहीं कर सकता. वायरस किसी भी तापमान में मर सकता है अगर उसे उसके लिए हिसाब से वायावरण ना मिले तो वायरस का असर बाहरी तापमान पर ज्यादा नहीं होता हमारे शरीर का तापमान 36.5 से 37 डिग्री सेल्सियस होता है |

3.) गर्म पानी में नहाने से कोरोना वायरस नहीं फैलता :- WHO ने इसको भी गलत बताया है कोरोना वायरस गर्म पानी में भी बच सकता है जब आप नहाते है उस समय भी शरीर का तापमान 36.5 से 37 डिग्री सेल्सियस के बीच में ही रहता है ज्यादा गर्म पानी से नहाने पर जलने का खतरा हो सकता है इसलिए ये गलत है कि गर्म पानी में नहाने से कोरोना वायरस नहीं फैलता |

4.) मच्छरों से फैलता है वायरस :- अभी तक ऐसी कोई भी जानकारी सामने नहीं आई, जिससे ये कहा जा सकते कि कोरोना वायरस मच्छरों से फैलता है इसलिए ये भी एक गलतफहमी है ये एक रेस्पिरेटरी वायरस है, जो किसी संक्रमित व्यक्ति के खांसने, छीकने या फिर संपर्क में आने से फैसला है |

5.) हैंड ड्रायर्स से कोरोना वायरस मर जाता है :- WHO ने कहा है कि हैंड ड्रायर्स से कोरोना वायरस नहीं मरता कोरोना वायरस पर हैं ड ड्रायर्स का कोई असर नहीं होता अपने आपको सुरक्षित रखने के लिए अल्कोहल बेस्ट सैनिटाइजर या फिर साबुन और पानी से हाथ को धोएं |

6.) अल्ट्रावॉयलेट डिसइंफेक्शन लैंप से कोरोना वायरस मरता है :- WHO ने इसको भी गलत बताया है WHO के मुताबिक इससे कोरोना वायरस नहीं मरता अल्ट्रवॉयलेट डिसइंफेक्शन लैंप का इस्तेमाल शरीर के सामने नहीं किया जाना चाहिए अल्ट्रावॉयलट रेडिएशन की वजह से आपकी स्किन पर जलन हो सकती है |

7.) थर्मल स्कैनर कोरोना के संक्रमण का पता लगान में कितना प्रभावी :- कोरोना की जांच के लिए हर जगह थर्मल स्कैनर का यूज किया जा रहा है WHO के मुताबिक थर्मल स्कैलन की मददसे शरीर के तापमान से बुखार का पता लगाया जा सकता है, लेकिन इससे कोरोना वायरस से संक्रमण का पता नहीं चलता क्योंकि कई बार कोरोना से संक्रमित व्यक्ति को बुखार आने में 2 से 10 दिनों तक का वक्त लग जाता है |

8.) अल्कोहल या क्लोरीन छिड़कने से मरता है कोरोना :- WHO के मुताबिक ये एकदम गलत है अगर कोरोना वायरस आपकी शरीर में घुस चुका है तो अल्कोहल और क्लोरीन छिड़कने से इस पर कोई असर नहीं पड़ेगा ये दोनों चीजें सिर्फ शरीर के ऊपर की सफाई करती हैं बल्कि इससे आपको नुकसान भी पहुंच सकता है लेकिन ये दोनों चीजें किसी निर्जीव सतह पर छिड़की जाए तो उसका फायदा हो सकता है |

9.) कोरोना वायरस से निमोनिया का वैक्सीन बचा लेता है :- निमोनिया के वैक्सीन कोरोना वायरस से नहीं बचाता कोरोना वायरस एकदम अलग और नया है इसके लिए अभी तक कोई भी वैक्सीन खोजा नहीं गया है वैज्ञानिक अभी इसके वैक्सीन को बनाने की कोशिशों में जुटे हुए हैं |

10.) सैलाइन से नाक साफ करने से कोरोना से बचा जा सकता है :- ये भी गलत है. WHO ने कहा है कि इसका अभी तक कोई भी सबूत नहीं है कि लगातार सैलाइन से नाक साफ करने से कोरोना से बचा जा सकता है |

11. ) लहसुन खाने से कोरोना का संक्रमण नहीं होता :- ये अफवाह है WHO ने कहा है कि स्वास्थ्य के लिए लहसुन अच्छा होता है लेकिन अभी तक ऐसा कोई भी प्रमाण नहीं है जिससे ये कहा जा सके की लहसुन खाने से कोरोना वायरस का संक्रमण से बच सकते हैं |

12. बुर्जुगों और बच्चों को अटैक करता है वायरस :- कोरोना वायरस से हर उम्र के लोगों संक्रमित करता है ऐसा नहीं है कि ये सिर्फ बच्चों और बुर्जुगों को संक्रमित करता है. हां, लेकिन बुर्जुगों के साथ अस्थमा, डायबिटीज या दिल की बीमारी से जूझ रहे लोगों को इससे खतरा ज्यादा होता है |

13.) एंटीबॉयोटिक्स से सही होता है कोरोना :- एंटीबॉयोटिक्स कोरोना वायरस को ठीक करने में काम नहीं करते, ऐसा WHO का कहना है ये दवाईयां वायरस को नहीं सिर्फ बैक्टीरिया को मारती हैं हां अगर कोई अस्पताल में है तो उसे ये दवाइयां दी जा सकती हैं जिससे बैक्टीरियल इंफेक्शन ना हो |

14.) कोरोना के लिए दवाइयां है :- WHO के अनुसार कोरोना वायरस के लिए अभी तक कोई भी दवाई नहीं है. वैज्ञानिक वैक्सीन तैयार करने की कोशिशों में जुटे हुए हैं |

Get 90% OFF On All 1 Year Hosting Plan Buy Now
लेटेस्ट अपडेट पाने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करें Subscribe Now
अब आप  फॉलो को Google News App पर Follow Now
कैसा लगा हमारा ये आलेख, अगर आपको अच्छा लगे तो अपने दोस्तों के साथ इस पोस्ट को शेयर जरूर करें

Leave a Comment

You cannot copy content of this page