Fruits

क्रेनबेरी के फायदे, क्रेनबेरी के सेवन का उचित समय

क्रेनबेरी के फायदे और क्रेनबेरी के सेवन का उचित समय

क्रेनबेरी के फायदे : दोस्तों आज हम आपको क्रेनबेरी के फायदे के बारें में विस्तार से जानकारी देंगे, इसलिए इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें

क्रेनबेरी के फायदे और क्रेनबेरी के सेवन का उचित समय

शरीर के लिए हर प्रकार के फल फायदेमंद होते हैं। अलग अलग फलों में अलग-अलग पोषक तत्व पाए जाते हैं। जो शरीर के जरूरतमंद खनिज तत्वों की पूर्ति करते हैं। क्रेनबेरी एक फल है। जिसे न्यूट्रिएंट्स का पावर हाउस कहा जाता है। क्रेनबेरी फल में विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है। जो शरीर के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद है। इसके अलावा क्रेनबेरी फल में कई बीमारियों से लड़ने की क्षमता होती है और क्रेनबेरी फल शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत करता है। आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से क्रेनबेरी फल से होने वाले फायदों के बारे में बात करेंगे।

क्रेनबेरी के फायदे

1. क्रेनबेरी के सेवन से यूरिनरी ट्रैक्ट इनफेक्शन जैसी समस्या दूर होती है। यह समस्या है और महिलाओं में उम्र की साथ साथ यह समस्या बढ़ती जाती है। कई प्रकार की वैज्ञानिक रिसर्च के बाद पता चला है। कि क्रेनबेरी खाने या क्रेनबेरी का जूस पीने से यूरिन इन्फेक्शन जैसी समस्या दूर हो जाती है। क्योंकि क्रेनबेरी में पीएसी नामक तत्व पाया जाता है। जो यूरिनरी ट्रैक्ट बैक्टीरिया को इंफेक्शन फैलाने से रोकता है।

​2. कैनबरी साल की निरंतर सेवन से शरीर में कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि रुक जाती है। क्रेनबेरी में फाइटोकेमिकल मौजूद होता है। जो कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है। फाइटोकेमिकल कोशिकाएं शरीर के अंदर यकृत के कैंसर खून के कैंसर फेफड़ों के कैंसर इत्यादि के लिए काफी ज्यादा मददगार है। क्रेनबेरी में एंटीकार्सिनोजेनिक कंपाउंड पाया जाता है। जो शरीर की कैंसर कोशिकाओं को जड़ से खत्म करने तथा उनकी निरंतर वृद्धि को रोकने के लिए मददगार है। कैंसर के रोगियों को डॉक्टर भी क्रेनबेरी फल के सेवन की सलाह देता है।

​3. आंतों के लिए क्रेनबेरी फल काफी ज्यादा फायदेमंद है। हाथों में कई प्रकार के हानिकारक बैक्टीरिया मौजूद होते हैं। इन बैक्टीरिया को रोकने तथा इनके प्रभाव को कम करने के लिए क्रेनबेरी फल का सेवन जरूरी है। क्रेनबेरी फल के सेवन से पेट के अल्सर इत्यादि समस्या भी दूर होती है।

4. क्रेन बेरी के सेवन से किडनी स्टोन की समस्या दूर हो जाती है। पथरी की समस्या से हर कोई परेशान होता है और ऐसे में उसे क्रेनबेरी फल का सेवन करना चाहिए। क्योंकि क्रेनबेरी फल मैनिक एसिड के साथ-साथ कई ऐसे तत्व पाए जाते हैं। जो किडनी के स्टोन को तोड़कर मूत्र के साथ बाहर निकालने में मददगार है।

​5. क्रेनबेरी के निरंतर सेवन से मुंह ताजा रहता है और मुंह संबंधित कई बीमारियां दूर होती है। क्योंकि क्रेनबेरी में प्रोएंथोसाइएनिडिन पाया जाता है। जो मुंह की कैविटी को दूर करता है। साथ ही मसूड़ों से संबंधित बीमारियों को दूर करके मसूड़ों की मांसपेशियों को मजबूत करने में सहायक है।

6. हृदय संबंधित कई प्रकार की बीमारियों को दूर करने में क्रेनबेरी रामबाण उपाय माना जाता है। क्रेनबेरी फल में पॉलीफेनॉल पाया जाता है। जो शरीर की हड्डी मांसपेशियों को मजबूत करके हृदय से संबंधित जुड़े कई खतरों को टालने में मददगार है। साल 2019 के एक रिसर्च में यह बात पता चली है। कि क्रेनबेरी के निरंतर सेवन से हृदय संबंधित कई प्रकार की बीमारियां दूर होती है। साथ ही साथ शरीर का ब्लड प्रेशर नियमित रहता है। जिससे बीपी जैसी समस्या भी दूर होती है।

7. कोलेस्ट्रॉल की समस्या क्रेनबेरी के सेवन से दूर हो जाती है। क्योंकि क्रेनबेरी के सेवन करने से शरीर की बीएमआई कम होती है। जिससे शरीर में कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ता है और कोलेस्ट्रॉल लेवल नियमित रहने से हृदय संबंधित बीमारियां दूर होती हैं। साथ ही क्रेनबेरी के सेवन से शरीर का शुगर लेवल भी कंट्रोल रहता है।

8. मोटापा से आज के समय में बहुत से लोग परेशान है। मोटापा कम करने के लिए कई प्रकार की आयुर्वेदिक तथा एलोपैथिक दवाइयां खाते हैं। लेकिन अगर व्यक्ति क्रेनबेरी का निरंतर सेवन करें तो मोटापा जैसी समस्या का समाधान आसानी से हो जाता है। क्योंकि क्रेनबेरी फल में कई प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। जो शरीर से टॉक्सिन को बाहर निकालने में मददगार है। साथ ही पसीने के साथ फैट को कम करते हैं और शरीर से पसीना और फैट कम होगा तो निश्चित तौर पर मोटापा कम हो जाएगा।

यह भी पढ़ें :- सीताफल के फायदे और सीताफल की सेवन का उचित समय

क्रेनबेरी के सेवन का उचित समय

क्रेनबेरी का सेवक सुबह भूखे पेट या खाने के साथ कर सकते हैं। इसके अलावा क्रेनबेरी का अचार डाल कर आप खाने के साथ भी इसका सेवन कर सकते हैं। खाने के साथ क्रेनबेरी के सेवन करने से पाचन शक्ति मजबूत रहती है। क्योंकि क्रेनबेरी में अत्यधिक मात्रा में फाइबर उपस्थित होते हैं।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page