Kya khana Chihiye

हृदय रोग में क्या खाना चाहिए

हृदय के रोगी को किस प्रकार के भोजन करने चाहिए ?

हार्ट के मरीज को कौन सा फल खाना चाहिए हार्ट पेशेंट को कौन सा फल खाना चाहिए हार्ट पेशेंट के लक्षण हृदय रोग से मुक्ति के उपाय दिल बाईपास रोगियों के लिए सबसे अच्छा आहार एंजो प्लास्टिक के बाद क्या खाना चाहिए हृदय रोग आयुर्वेदिक उपचार हृदय के लिए आहार

हृदय के रोगी को किस प्रकार के भोजन करने चाहिए ?

ओमेगा 3 तेल का करें सेवन

हृदय से संबंधित रोगों से ग्रसित व्यक्ति को अपने आहार का विशेष रूप से ध्यान देना चाहिए। जैसे कि सब्जियों में कम से कम तेल का सेवन करना चाहिए। यदि करें भी तो उसमें ओमेगा थ्री हो। यह तेल कोलेस्ट्रोल नियंत्रित करने में सहायक है।

साबुत अनाज का करें सेवन

हृदय रोगी को अनाज का चुनाव करते समय साबुत अनाज के साथ ही फल एवं हरी सब्जियों का सेवन करना फायदेमंद होता है।

हरी सब्जियों का करें सेवन

हृदय रोग से पीड़ित व्यक्ति को हरी सब्जियों का सेवन सर्वाधिक करना चाहिए सब्जियों का चुनाव करते समय हरी पत्तेदार सब्जियां सब्जियों में पालक ,मूली, पत्ता गोभी, मेथी का पत्ता ।यह हृदय रोग के जोखिम को कम करने में सहायक सिद्ध होते हैं ।खास बात यह है ,की हरी सब्जियों में चर्बी नहीं होती और साथ ही ना इसमें कैलोरी होती है ।इसके साथ ही यह फाइबर से भरपूर होते हैं। इसमें बहुत से पोषक तत्व पाए जाते हैं, जैसे कि मैग्नीशियम ,पोटेशियम ,कैल्शियम आदि।

ओट को ब्रेकफास्ट में करे शामिल

हमारे सुबह की शुरुआत ब्रेकफास्ट से होती है ।यदि नाश्ते में हम ओट का सेवन करें ,तो इसके सेवन से हमारा पेट लंबी अवधि तक भरा रहता है। यह हृदय के लिए भी अच्छा माना जाता है। यह एक घुलनशील फाइबर होता है ।इसमें बीटा ग्‍लूकन पाया जाता है ।यह शरीर के कोलेस्ट्रॉल को कम करने में सहायक है।

बादाम का करें सेवन

हृदय रोग में कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना घातक सिद्ध होता ।है बादाम को खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित हो जाता है ।साथ ही रक्त में क्‍लॉट बनने से बचाता है। इसके साथ ही बादाम में विटामिन बी ,17 एवं मिनरल पाए जाते हैं ।जैसे कि मैग्निशियम, जिंक ,आयरन एवं मोनोसैच्‍युरेटेट फैट से यह भरपूर होते हैं।

यह भी पढें :- हृदय रोग क्या है ? जानिए इसके बारें में विस्तार से।

हृदय के रोगी को किन भोज्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए ?

फास्ट फूड से बनाए दूरी

हृदय रोगी को फास्ट फूड नहीं खाने चाहिए ,क्योंकि यह ह्रदय संबंधी बीमारी को बढ़ाने में सहायक है ,साथ ही इसका सेवन करने से रोगी हो अन्य तरह की समस्या जकड़ लेती है।

डेयरी में उपलब्ध खाद्य पदार्थ से पहरेज

हृदय रोगी को डेरी के उत्पाद का सेवन तत्काल रुप से बंद कर देना चाहिए ,क्योंकि यह हृदय के लिए बेहद नुकसानदेह साबित होता है।

धूम्रपान एवं शराब को करे निषेध

हृदय से संबंधित बीमारी रोगी को चाहिए कि वह धूम्रपान तंबाकू एवं शराब जैसी लत को शीघ्र अति शीघ्र छोड़ दे ।क्योंकि यह रोगी के लिए अपने आप में बहुत बड़े शत्रु होते हैं।

अल्प मात्रा में चीनी एवं नमक ले

रोगी को चीनी और नमक दोनों की मात्रा खाने में अल्प कर देनी चाहिए ,क्योंकि नमक एवं चीनी दोनों की सर्वाधिक मात्रा में सेवन हृदय के लिए घातक हो सकता है।

प्रोसैस्ड मीट से करे पहरेज़

हृदय रोगी को प्रोसेस्‍ड के सेवन से बचना चाहिए ।इसमें हजारों की संख्या में ऐसे तत्वों का प्रयोग किया जाता है जो कि हृदय के लिए ठीक नहीं है ।इसको सड़ने से बचाने के लिए कई चरणबद्ध प्रक्रिया स्मोकिंग ,ड्राइंग ,और कैनिंग से गुजरता है जो कि हमारे हृदय के लिए प्राणघातक है।

चीज एवं मक्खन

रोगी के लिए कोलेस्ट्रॉल का का बढ़ना खतरे की घंटी की निशानी है मक्खन के सेवन से कोलेस्ट्रॉल के लेबल में अच्छी खासी वृद्धि होती है। इसके साथ ही चीज में संतृप्त वसा प्रचुर मात्रा में होती है। जो कि हृदय के लिए अच्छा साबित नहीं होता।

टमाटर केचप के सेवन से बचें

ज्यादातर देखा गया है ।स्वाद को बढ़ाने के लिए हम टमाटर केचप का प्रयोग करते हैं ।लेकिन व्यक्ति इस बात से पूरी तरह अनजान होता है ,कि इसमें कैलोरीज के साथ ही कोलेस्ट्रोल बढ़ने की संभावना होती है । इसमें वसा भी सर्वाधिक होता है। जिससे कि हृदय रोग में जटिलताएं उत्पन्न हो जाती है।

सोया सॉस को करे ना

हम अपने आहार में जायके को बढ़ाने के लिए सोया सॉस का प्रयोग करते हैं ।परंतु सोया सॉस में सर्वाधिक नमक के साथ ही सोडियम होता है ।जो हृदय से संबंधी समस्याओं को बढ़ा देता है।

तैलीय कुछ पदार्थों का ना करे सेवन

बहुत अधिक तेल का उपयोग करने से भोज्य पदार्थ स्वादिष्ट तो हो जाता है। परंतु यह स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं माना जाता ।बहुत अधिक फ्राई करने पर खाद्य पदार्थों में carcinogen मौजूद होते हैं। जो हृदय संबंधी समस्याओं को बढ़ा देते हैं। इसके साथ ही इसके सेवन से कोलेस्ट्रॉल, मोटापा एवं कैंसर को बढ़ावा मिलता है।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page