Indian Festival

होलिका दहन 2022: जानिए क्या खास है इस त्यौहार में , होली का इतिहास

होलिका दहन 2022: जानिए क्या खास है इस त्यौहार में , होली का इतिहास

होलिका दहन 2022: जानिए क्या खास है इस त्यौहार में , होली का इतिहास:- हम जानते हैं कि भारत को त्योहारों का देश कहा जाता है जहां पर विभिन्न प्रकार के त्योहार मनाए जाते हैं और बड़े ही उत्साह के साथ त्योहारों का आयोजन किया जाता है और सभी त्योहारों को मनाने के पीछे कोई ना कोई कथा जरूर होती है विभिन्न पुराणों के आधार पर हमें यह जानने को मिलता है जिसकी वजह से हम सभी त्योहारों को उत्साह के साथ मनाते हैं कि उसी प्रकार होली के मनाए जाने के पीछे की कथाएं और कारण बताए जाते हैं पुराणों में बेटियों के राजा हिरण्यकश्यप की कथा आती है चलिए अब हम विस्तार से समझाते है

होलिका दहन 2022

यह भगवान विष्णु का विरोधी था उसका पुत्र प्रहलाद विष्णु का भक्त था हिरण्यकश्यप ने प्रहलाद से रुष्ट होकर उसे मरवाने के प्रयास किए किंतु उसकी सभी कोशिशें नाकाम हो गई थी अंत में उसकी बहन ने प्रहलाद को मारने का उपाय सुझाया उसके पास एक अग्नि रोधक चादर थी वह उसे ओढ़कर और पहलाद को गोद में लेकर अग्नि के बीच में बैठ गई थी किंतु आंधी से चादर प्रहलाद से लिपट गई थी जिसकी वजह से प्रह्लाद अग्नि में चलने से बच गए थे उसकी बुआ जलकर राख हो गई थी इसी की स्मृति में होली जलाई जाती है कुछ लोग इसे भी तू और फसल का उपयोग भी मानते हैं नई फसल के होलौ या बालों को आग में भूना जाता है और बांटा जाता है

होली का त्यौहार कौनसे महीने में मनाया जाता है

होली का त्योहार फाल्गुन महीने की पूर्णिमा को मनाया जाता है यह त्यौहार 2 दिन तक बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है पहले दिन लकड़ी उपलों का ढेर लगाकर उसमें आग लगाई जाती हैं इस दिन लोग होलिका के दहन के समय गेहूं के होलै और चने की होलै को भूनते है। और होलिका के चारों तरफ परिक्रमा लगाते हुए जय जयकार करते हैं

अगले दिन होली का गुलाल लगाते हैं स्त्री ,पुरुष बालक ,वृद्ध सभी होली के त्यौहार का आनंद लेते हैं और होली के रंगों में मस्त हो जाते हैं और एक दूसरे के घर पर मिलने के लिए जाते हैं एक दूसरे को गुलाल लगाते हैं और भाईचारे की भावना को बढ़ाते हैं आने वालों को ठंडाई और पकवान खिलाकर उनका स्वागत किया जाता है गलियों और बाजारों में लोग एक समूह में एकत्रित होकर गाने गाते और नाचते गाते गुलाल उड़ाते हुए घूमते हैं शाम के समय जगह जगह पर होली मिलन समारोह आयोजित करते हैं मंदिरों में भक्ति भाव से होली खेली जाती है।

मेल मिलाप और प्रेम की वृद्धि होली के त्यौहार का प्रमुख लक्ष्य होता है होली का त्योहार हिंदुओं का प्रमुख त्योहार है होली का त्यौहार अधिकतर हिंदू धर्म से संबंधित होने पर भी धार्मिक भेदभाव से युक्त हैं इस त्यौहार का आधार सामाजिकता है लोगों को मतभेद भुलाकर परस्पर प्रेम और मेल से रहने का संदेश होली के त्योहार से मिलता है एक दूसरे से गले मिलकर सारी पुरानी गलतियों को बुलाकर एक नई शुरुआत की जाती है

दूसरों से हंसी उड़ाने की आदत तो मनुष्य की होती है परंतु होली अपने ऊपर ही हंसने का अवसर देती इससे आदमी के दोस्त उसके सम्मान आते हैं और उनसे बचने का अवसर उसको प्राप्त होता है। होली का त्योहार हमारे जीवन में एक नई उत्साह की किरण लेकर आता है और अपने जीवन में सारी गलतियों को भुलाकर एक नई उमंग की राह पर लेकर जाते हैं

होली का त्यौहार हमारे लिए खुशियों की बहार लेकर आता है इस त्योहार पर सभी लोग अपनी अपनी गलतियों को बुलाकर एक नए रिश्ते की शुरुआत करते हैं और इस त्यौहार का आनंद लेते हैं होली का त्यौहार सभी के लिए आनंद भर होता है जिसकी वजह से होली के त्यौहार को सभी लोग बड़े ही चाव के साथ मनाते हैं होली के द्वारा हमें सामाजिक प्रेम भाव की भावना को बढ़ाने के अवसर प्रदान किए जाते हैं यह वर्ष भर के बेर विरोध बुलाकर गले मिलने का पर्व है होली उल्लास और मस्ती का त्यौहार है जो हमारे जीवन में खुशियों की बहार लेकर आता है|

होली के त्योहार की अच्छाई और बुराई

इस त्यौहार की सबसे बड़ी अच्छाई यह है कि लोग इस अवसर पर पुराने गिले-शिकवे भूल कर आपस में गले मिलते हैं प्रेम व्यवहार को आपस मैं बढ़ाते हैं बुराई की दृष्टि से कुछ लोग इस अवसर पर नशे मैं चूर होकर एक दूसरे से लड़ाई झगड़ा करते हैं एक दूसरे पर कीचड़ उछालते हैं। और गंदी गंदी गालियां देते हैं इन सभी में नशे का सहारा लेते हैं।

होली के त्यौहार से हमें यह संकेत मिलता है कि होली मिलन और आनंद का त्योहार है इसलिए हमें इस त्योहार पर अभद्र प्रदर्शन नहीं करना चाहिए बल्कि एक दूसरे के गले मिलकर आपसी प्रेम व्यवहार बढ़ाना चाहिए हम सब को मिलकर इस संस्कृति को बनाए रखना है और इस संस्कृति को समझना चाहिए ज्यादा से ज्यादा भारतीय संस्कृति का विस्तार किया जाना चाहिए।

Read Also :- 

Conclusion:- दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने होलिका दहन 2022: जानिए क्या खास है इस त्यौहार में , होली का इतिहास के बारे में विस्तार से जानकारी दी है। इसलिए हम उम्मीद करते हैं, कि आपको आज का यह आर्टिकल आवश्यक पसंद आया होगा, और आज के इस आर्टिकल से आपको अवश्य कुछ मदद मिली होगी। इस आर्टिकल के बारे में आपकी कोई भी राय है, तो आप हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताएं।

Leave a Comment