Fruits

हनी बेरी के फायदे और बायोटेक्निकल नाम क्या है

हनी बेरी के फायदे और बायोटेक्निकल नाम क्या है

हनी बेरी के फायदे : दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल में हनी बेरी फल के फायदे के बारे में विस्तार से जानकारी बताएं इसलिए इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें

हनी बेरी के फायदे और हनी बेरी खाने का उचित समय

इस हनी बेरी फल जिसका उपयोग दुनिया भर में बहुत ज्यादा होता है। यह एक छोटा व लंबी आकृति का फल है। स्वाद में हनीबेरी बहुत ही टेस्टी होता है और स्वाद में अगर किसी दूसरे फल की समानता की बात की जाए, तो हनी बेरी का स्वाद ब्लूबेरी फल के समान होता है। हनी बेरी फल कई प्रकार के पोषक तत्वों से भरपूर होता है। जो शरीर में मुख्य तौर पर स्वास्थ्य लाभ देने में सहायक है। साथ ही कई प्रकार की बीमारियों से छुटकारा दिलाने में भी मदद करता है। आज हम इस आर्टिकल में हनी बेरी के फायदे हनी बेरी खाने का उचित समय हनी बेरी के साइड इफेक्ट इत्यादि के बारे में बात करेंगे।

हनी बेरी का बायोटेक्निकल नाम

हनी बेरी फल एक सामान्य नाम है। जिसे मुख्यतः भारत में उपयोग किया जाता है। इस फल का जापानी नाम हैस्कैप है। और इसे कई देशों में हस्कैपु बेरीज से भी जाना जाता है।
हनी बेरी का बायोटेक्निकल नाम Lonicera caerulea हैं।

यह भी पढें :- हकलबेरी फल खाने के फायदे और इसके सेवन का उचित समय

हनीबेरी के फायदे

1. इस फल का सेवन करने से सूजन दूर होती है। मतलब यह है, कि हनी बेरी के फायदे का एक मुख्य फायदा यह भी है। जो पुरानी से पुरानी सूजन की बीमारी से छुटकारा देने में लाभदायक है। सूजन निवारक के रूप में हनीबेरी कार्य करती है। इसमें एंथोसाइन नामक पोषक तत्व पाया जाता है।
जो सूजन को कम करने में सहायक है।

2. हनी बेरी में उपस्थित एंथोसाइन नामक पोषक तत्व आंखों की रोशनी को बढ़ाने में बहुत ही मददगार है। यह पोषक तत्व रेटिना की कोशिकाओं के भीतर परिसंचरण को बढ़ाने में मदद करता है। तथा रेटिना की मांसपेशियों को मजबूत करने में सहायक है। हनी बेरी के सेवन से आंखों की दृष्टि तेज होती है।

3. इस फल में ऑक्सीडेटिव डीएनए को क्षति प्रदान करने की क्षमता होती है। हनी बेरी को मुख्य तौर पर कैंसर के लिए रामबाण इलाज माना जाता है। हनी बेरी का उपयोग करके कैंसर जैसी घातक बीमारियों से आसानी से लड़ सकते हैं। हनी बेरी के नियमित रूप से सेवन करने से कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि को रोकना आसान हो जाता है।

4. हनी बेरी के लाभ इसमें एक मुख्य लाभ हृदय संबंधित बीमारियों से छुटकारा दिलाना भी है। रक्त वाहनों की दीवार को मजबूत बनाता है। तथा क्षतिग्रस्त रक्त वाहिनी ओं की मरम्मत करने में हनी बेरी सहायक है। इसके अलावा संयोजी उत्तक को नष्ट करने वाले एंजाइमों को शांत करके रक्त वाहिकाओं की नसों को शांत करने में मदद करता है।

5. हनी बेरी में अत्यधिक मात्रा में कैलोरी पाई जाती है। जो शरीर में ऊर्जा को बढ़ावा देने में मददगार है। तथा हनी बेरी के सेवन से शरीर को तुरंत ऊर्जा प्रदान होती है और शरीर हष्ट पुष्ट बन जाता है।

6. इस फल में एंटी ऑक्सीडेंट तत्व समृद्ध रूप में पाए जाते हैं। हनी बेरी में उपस्थित एंटी ऑक्सीडेंट तत्व शरीर के कई प्रकार के हानिकारक गणों को मुक्त करते हैं। तथा शरीर से कई प्रकार की जानलेवा बीमारियों को मिटाने में सहायक है। इतना ही नहीं यह एंटी ऑक्सीडेंट तत्व शरीर के प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करके कई रोगों से लड़ने की क्षमता उत्पन्न करते हैं।

7. इस फल का नियमित रूप से सेवन करने से शरीर का ब्लड प्रेशर नियमित बना रहता है। उच्च रक्तचाप जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलता है।

8. हनी बेरी के सेवन से शरीर के मस्तिष्क की कोशिकाएं मजबूत रहती है। तथा स्मरण शक्ति को बढ़ाने में हनी बेरी रामबाण उपाय माना जाता है।

हनी बेरी में उपस्थित पोषक तत्व

1. फाइबर
2. विटामिन सी
3. मैग्नीज
4. विटामिन बी6
5. पानी
6. कार्बोहाइड्रेट
7. कैल्शियम
8. एंटीऑक्सीडेंट तत्व
9. एंथोसाइन

हनी बेरी का नुकसान

इस फल का सेवन करने से शरीर में ज्यादातर कोई नुकसान नहीं देखने को मिलता है। लेकिन यदि अत्यधिक रूप से हनी बेरी का सेवन किया जाता है। तो शरीर का पाचन तंत्र बिगड़ सकता है। शरीर का पाचन तंत्र बिगड़ने से शरीर में पेट संबंधित कई प्रकार की बीमारियां उत्पन्न हो जाती है और इसका सीधा प्रभाव शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली पर भी पड़ता है।

हनी बेरी खाने का उचित समय

यह हनी बेरी का सेवन करना शरीर के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। इस फल का सेवन सुबह नाश्ते के साथ करना और भी उचित माना जाता है। सुबह नाश्ते के साथ इसका सेवन करने से शरीर का पाचन तंत्र नियमित रहता है। और शरीर में उच्च कैलोरी मिल जाती है। जो शरीर को तंदुरुस्त रखने में सहायक है।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page