Bimari Health Tips

खांसी केसे होती है :- लक्ष्ण , उपाय , इलाज

खांसी केसे होती

खांसी इन घरेलू उपाय से करें दूर , खांसी का इलाज , खांसी के लक्ष्ण , खांसी का आयुर्वेदिक इलाज , खांसी की परेशानी , खांसी के उपाय , Khansi Ka Ilaj , Khansi Ke Nuskhe , Khansi Ka Syrup , खांसी केसे होती

खांसी केसे होती:-  खांसी की शिकायत व्यक्ति को मौसम के परिवर्तन होने पर हो होती है ।अक्सर देखा गया है ,कि ऋतु परिवर्तन होने पर व्यक्ति के स्वास्थ्य पर इसका सीधा प्रभाव पड़ता है ।खांसी एवं जुखाम के साथ-साथ फेफड़ों में कफ    भी बनने लगता है ।यह आगे चलकर परेशानी का मुख्य कारण बन जाता है। इसको निमोनिया के नाम से भी जानते हैं ।यह एक प्रकार का संक्रमण है, इससे ग्रसित व्यक्ति एक व दोनों फेफड़ों में वायु के स्थान पर द्रव्य या मवाद इस संक्रमण की स्थिति में भर जाता है ,और धीरे-धीरे फेफड़ों में सूजन भी आ जाती है।परिणामस्वरूप व्यक्ति को खांसी, बुखार, ठंड लगना एवं श्वास लेने में भी पीडा़ की अनुभूति होती है   । निमोनिया वायरस एक प्रकार का बैक्टीरिया ,फफूंदी व परजीवी के कारण होने वाला रोग है यह स्ट्रेप्टोकोकस नाम के  बैक्टीरिया के कारण फैलता है। संक्षिप्त रूप में कहे ,तो यहां मुख्य तौर पर विषाणु या जीवाणु या अन्य आकस्मिक परिस्थितियों से इस संक्रमण का प्रारंभ होता  है।

जीका वायरस क्या होता है , Zika virus in Hindi

निमोनिया  व खांसी के लक्षण :- 

1) निमोनिया होने की दशा में रोगी की छाती में कफ की शिकायत होती है इससे सांस लेने में तकलीफ होती है।

2) प्रारंभिक तौर पर व्यक्ति को ठंड लगने लगती है और साथ ही बुखार आ जाता है

3) व्यक्ति की आंखों व मुख लाल हो जाते हैं।

4) निमोनिया से पीड़ित व्यक्ति को पानी अधिक  पीता है ,और भूख में कमी पाई जाती है।

5) व्यक्ति के सिर में तेज पीड़ा होती है।

6) कफ बढ़ने की स्थिति में व्यक्ति को सांस लेने में शिकायत एवं उसके फेफड़े भी क्षतिग्रस्त होने लगते हैं।

7)  व्यक्ति के निरंतर खांसने से, उसके पसलियों में पीड़ा होने लगती है

वायरल फीवर क्या है , लक्षण , प्रभावी रोकथाम , इलाज 

खांसी बचाव एवं उपाय:- 

1) व्यक्ति को मौसम परिवर्तन की स्थिति में ठंडे पानी का सेवन नहीं करना चाहिए

2) निमोनिया से ग्रसित व्यक्ति को सादा एवं संतुलित आहार करना चाहिए

3)  पानी के अलावा अन्य पेय पदार्थों से बचना चाहिए।

4)  निमोनिया से पीड़ित व्यक्ति को तेल वह मसाले से रहित भोजन करना चाहिए।

5) व्यक्ति को घर का खाना खाना चाहिए और  बाहर के खाद्य पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए।

6) संक्रमित व्यक्ति की रुमाल एवं वस्त्रों  को उपयोग मे लाने से चाहिए।

7) रोगी के कमरे में स्वच्छता का विशेष ध्यान रखना चाहिए।

8)  खांसी से ग्रस्त व्यक्ति के कमरे में रोशनदान होना चाहिए जिससे सूर्य एवं वायु का आदान-प्रदान हो सके।

 

Leave a Comment

You cannot copy content of this page