Health News

जानिए प्री-डायबिटीज के संकेत

 Join Telegram Channel Now

जानिए प्री-डायबिटीज के संकेत:प्री-डायबिटीज के लक्षण काफी गंभीर होते हैं ऐसे में डायबिटीज मरीज की जीवन शैली में काफी बड़ा बदलाव आ जाता है आपको बता दें डायबिटीज तब होती है जब शरीर में ब्लड शुगर का लेवर काफी बढ़ जाता है आपको बता दें उम्र के साथ-साथ जब बीपी का स्तर भी बढ़ता है उसी तरह शुगर का लेवल भी हमारे शरीर में बढ़ता है और शुगर का लेवल नॉर्मल होना भी बेहद जरूरी है क्योंकि अगर शुगर का स्तर ज्यादा बढ़ जाता है तो यह डायबिटीज का कारण बनता है

ब्‍लड शुगर चेक करना चाहिए

  • डायबिटीज के मरीज को ब्लड शुगर चेक करते रहना बेहद जरूरी है और ब्लड शुगर ट्रांसफर की जानकारी होना भी बहुत जरूरी है 
  • आपको बता दें ब्लड शुगर चेक करने का सही समय होता है और उसी समय पर आपको सही स्तर का पता चलता है 
  • जैसा कि सुबह खाली पेट फस्टिंग की रीडिंग जानने के लिए उचित समय होता है
  • इसके अलावा ब्लड शुगर चेक करने के लिए रात के खाने के समय से पहले 8 घंटे का गैप होना चाहिए 
  • तभी आपको सही ब्लड शुगर का स्तर का पता चलता है। 

प्री डायबिटिक का खतरा कब होता है- Pre Diabetic Ka khatra Kab Hota hai in Hindi

  • आपको बता दें फास्टिंग में ब्लड शुगर का स्तर 70-100 mg/dl के बीच में होना चाहिए 
  • अगर फास्टिंग में ब्लड का स्तर 100-126 mg/dl पहुंच जाए तो इसे प्री-डायबिटीज कंडीशन माना जाता है 
  • इसके अलावा अगर शुगर का स्तर 130 mg/dl से अधिक हो जाए आपके लिए काफी खतरनाक हो सकता है।
  • इसीलिए जब फास्टिंग में ब्लड का स्तर 70-100 mg/dl के बीच में रहता है 
  • तब तक आपकी सेहत के लिए किसी भी तरह का खतरा नहीं होता 
  • लेकिन जैसा हमने बताया उसे अधिक सर चला जाता है तो आपकी सेहत के लिए काफी खतरनाक साबित हो सकता है 
  • ऐसे में आपको डॉक्टर की सलाह की  जरूर पड़ेगी।

उम्र के अनुसार शुगर रेंज कब नार्मल माना जाता है?

  • अगर आपकी उम्र 20 से 26 साल है तो फास्टिंग में ब्लड 100 से 180 mg/dl  के बीच में होना चाहिए 
  • इसके अलावा अगर आप की उम्र 27 से 32 साल की है तो उसके लिए 100 mg/dl, फास्टिंग का रेंज होना चाहिए । 
  • 33 से 40 साल के उम्र के लोगों के लिए फास्टिंग रेंज 140 mg/dl, होना चाहिए 
  • इस रेंज को शुगर रेंज नॉर्मल माना जाता है।
  • डायबिटीज के मरीज को जब तक नार्मल रेंज में शुगर नहीं रहता है 
  • तब तक उन्हें खानपान में लगातार ध्यान रखना होगा 
  • क्योंकि कुछ गलत खान-पान से आपका शुगर खतरे में जा सकता है।

कब डॉक्टर को दिखाना चाहिए?

  • डायबिटीज के मरीज को लगातार अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना पड़ता है 
  • और अगर गंभीर लक्षण दिखे तो तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए 
  • ऐसे में अगर आपकी रेगुलर चल रही दवाई खत्म हो गई या फिर आपको लगातार चक्कर आ रहे हैं या अन्य गंभीर लक्षण है 
  • जैसे कि सिर दर्द लगातार थकान महसूस होना, बुखारा जैसे लक्षण देखने को मिले तुरंत अपने डॉक्टर को दिखाना चाहिए 
  • और आपको हमेशा रोजाना सेवन की जाने वाली दवाओं का सेवन निर्धारित समय के मुताबिक करना चाहिए। 

Conclusion:- दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने प्री-डायबिटीज  के लक्षण उपाय और डायबिटीज के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दी हम उम्मीद करते हैं, कि आपको आज का यह आर्टिकल आवश्यक पसंद आया होगा, और आज के इस आर्टिकल से आपको अवश्य कुछ मदद मिली होगी। इस आर्टिकल के बारे में आपकी कोई भी राय है, तो आप हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताएं

Important Link 
Join Our Telegram Channel 
Follow Google News
PhonePe App Download : जाने इस आसान तरीके से आप कमा सकते है हर दिन 300 रुपये

Leave a Comment