Cancer Health News

Lung Cancer kya Hai : लक्षण, कारण, इलाज, बचाव

Join Telegram Channel Now

Lung Cancer Symptoms in Hindi ,Lung Cancer Causes Lung Cancer Treatment & Diagnosis , क्या है लंग कैंसर , लंग कैंसर के कारण, लंग कैंसर के लक्षण , लंग कैंसर से बचाव के इलाज , fefdo ka cancer kaise hota hai , fefdo ka cancer ka ilaj , fefdo ke cancer ke lakshanbachav, फेफड़ों का कैंसर  , Lung Cancer kya Hai

Lung Cancer kya Hai :- लंग कैंसर-मनुष्य का शरीर कोशिकाओं से मिलकर बना है । यदि शरीर के किसी भी अंग की कोशिकाएं अचानक से वृद्धि होने लगे तो भविष्य में कैंसर का निर्माण करती है । ठीक ऐसे ही फेफड़ों में जो कोशिकाएं होती हैं  उनके अचानक से वृद्धि होने के कारण अनियंत्रित हो जाती हैं, इससे फेफड़ों का कैंसर शरीर में बनने लगता है।  धीरे-धीरे कोशिकाएं की संख्या की वृद्धि होती है ,और वह एक ट्यूमर के रूप में  ले लेता है । फेफड़ों का कैंसर का प्रमुख कारण सिगरेट पीना माना जाता है।

लंग कैंसर के लक्षण-

1) सामान्यतया लंग कैंसर से ग्रस्त व्यक्ति को शुरुआती तौर पर खांसी आती है ,जो कुछ समय अंतराल के बाद गंभीर रूप ले लेती है, और ठीक नहीं होती।

2)रोगी में कभी-कभी निमोनिया अथवा  ब्रोंकाइटिस की शिकायत बढ़ जाती है।

3) व्यक्ति का वजन कम हो जाता है ।

4) रोगी केभूख में पहले की अपेक्षा कमी आती है।

5) रोगी स्वयं को हमेशा थका हुआ महसूस करता है।

6) लंग कैंसर पीड़ित व्यक्ति को सांस लेने में परेशानी होती है।

 7) व्यक्ति की आवाज में परिवर्तन सामान्य तौर पर देखा गया है।

जीका वायरस क्या होता है

लंग कैंसर होने की स्थिति में उपचार-

1) सर्वप्रथम लंग कैंसर रोगी का इलाज सर्जरी के माध्यम से किया जाता है, उसके फेफड़ों के चार हिस्सों में किसी एक हिस्से को अलग करके इलाज किया जाता है ,जो हिस्सा सर्वाधिक प्रभावित हो उसी की सर्जरी की जाती है।

2) कीमोथेरेपी के बाद की मदद तब ली जाती है  जब शरीर में कैंसर वाली कुछ कोशिकाएं शेष रह जाती है  तो उसे नष्ट करने के लिए इस पद्धति का इस्तेमाल होता है।

3)एक अन्य तरीका  जो प्रयोग में लाया जाता है, रेडिएशन थेरेपी इसका प्रयोग उन कोशिकाओं को खत्म करने के लिए किया जाता है  जो पहले उपचार के लिए उपयोग में लाई जा चुकी है।

4) नवीनतम उपचार में एक लक्षित  दवा उपचार माना जाता है यह केवल उन्हीं कोशिकाओं को खत्म करने के लिए किया जाता है सामान्य तौर पर कीमोथेरेपी के साथ मिलाकर किया जाता है।

5) अक्सर देखा गया है, कि कैंसर रोग से ग्रसित व्यक्ति में उपचार उपरांत उसमें दुष्प्रभावों को देखने को मिलता है  ऐसी स्थिति में उन दुष्प्रभावों से बचाने के लिए सहायक देखभाल की जाती है। जिसे प्रशामक देखभाल के नाम से भी जानते हैं।

RAJcovidInfo मोबाइल एप क्या है और इसका मुख्य उद्देश्य

लंग कैंसर से बचने के उपाय:- 

1) लंग कैंसर से बचने के सर्वोत्तम उपायों में से एक है ,धूम्रपान का त्याग करना।

2)धूम्रपान की लत छुड़ाने के लिए कारगर उपायों में से एक निकोटीन रिप्लेसमेंट थेरेपी मानी जाती है।

3) तंबाकू से निकलने वाला धुआं निकलने वाला जिसे  सेकंड हैंड स्मोक के नाम से जानते हैं, फेफड़ों के कैंसर का जन्म देने का कारण माना गया है अतः इससे बचना चाहिए।

4)घर अथवा ऑफिस में रेडान नामक गैस के परीक्षण के लिए उससे संबंधित रेडॉन डिक्टेशन किट का प्रयोग करना चाहिए।

5) धूम्रपान करने वाले व्यक्ति से दूर रहना चाहिए क्योंकि धूम्रपान से निकला धुआं एक स्वस्थ व्यक्ति के फेफड़े पर भी असर डालता है।

6) 55 से 70 वर्ष के लोग जो 15 साल से धूम्रपान को छोड़ चुके हैं , उन्हें प्रतिवर्ष सिटी स्कैन के माध्यम से फेफड़ों की जांच करवाते रहना चाहिए।

Important Link 
Join Our Telegram Channel 
Follow Google News
PhonePe App Download : जाने इस आसान तरीके से आप कमा सकते है हर दिन 300 रुपये

Leave a Comment