Computer Tips

Storage डिवाइस क्या हैं और यह कितने प्रकार के होते हैं।

Storage डिवाइस क्या हैं

Storage डिवाइस क्या हैं :  दोस्तों आज के आर्टिकल में हम आपको स्टोरेज डिवाइस क्या है और यह कितने प्रकार के होते हैं उसके बारे में विस्तार से जानकारी देंगे इसलिए इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें

Storage डिवाइस क्या हैं और यह कितने प्रकार के होते हैं।

डिवाइस स्टोरेज एक प्रकार का हार्डवेयर है। जो मोबाइल कंप्यूटर लैपटॉप के डिवाइस के अंदर होता है। यह डाटा को स्टोर करने में काम आने वाला हार्डवेयर है। यह हार्डवेयर डाटा जानकारी को अस्थाई रूप से और स्थाई रूप से रखने का काम करता है। किसी भी तरह का हार्डवेयर चाहे कंप्यूटर में हो या कंप्यूटर डिवाइस से बाहर data store करने का काम करता है। किसी भी डिवाइस को चलाने के लिए स्टोरेज ड्राइव का होना बहुत जरूरी होता है और इसलिए हर प्रकार के डिवाइस में स्टोरेज हार्डवेयर डाला जाता है। ताकि मोबाइल या कंप्यूटर डिवाइस के डाटा को आसानी से store किया जा सके। आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से स्टोरेज डिवाइस क्या है, इसके बारे में बात करेंगे।

स्टोरेज डिवाइस क्या हैं

Storage डिवाइस एक प्रकार का हार्डवेयर है। जो डिवाइस के डाटा को स्टोर करने का काम करता है। हर प्रकार के डिवाइस में यह हार्डवेयर होता है। इस हार्डवेयर को इंटरनल स्टोरेज के नाम से भी जाना जाता है। कंप्यूटर डिवाइस मे रैम और रोम का नाम आपने सुना होगा। कंप्यूटर डिवाइस के यह दोनों हार्डवेयर जो कंप्यूटर में डाटा स्टोर करने के लिए उपयुक्त होते हैं। स्टोरेज डिवाइस कंप्यूटर का एक अभिन्न अंग होता है जो अवश्य डाटा को संग्रहित करता है।

स्टोरेज डिवाइस के प्रकार

स्टोरेज डिवाइस कंप्यूटर का एक महत्वपूर्ण अंग है। जो डाटा को संग्रहित करने का कार्य करता है। एक कंप्यूटर में बहुत सारे स्टोरेज उपकरण लगाए जा सकते हैं। जैसे:- Ram, hard disk इत्यादि। स्टोरेज डिवाइस मुख्य रूप से दो प्रकार का होता है।

1. प्राइमरी स्टोरेज डिवाइस :- कंप्यूटर में प्राइमरी स्टोरेज डिवाइस ज्यादातर छोटे रूप में होते हैं। इनके काम करने की क्षमता बहुत तेज होती है और डाटा को संग्रहित करने की शक्ति भी अधिक होती है। इतना ही नहीं कंप्यूटर में डाटा को चलाने की गति तेज होती है। स्टोरेज डिवाइस की बात की जाए तो कंप्यूटर में स्टोरेज डिवाइस ram प्राइमरी स्टोरेज डिवाइस का एक उदाहरण है।

2. सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस :- इस डिवाइस में डाटा को संग्रहित करने की शक्ति बहुत ज्यादा होती है और इस डिवाइस में डाटा को स्थाई रूप से संग्रहित किया जा सकता है। यह स्टोरेज डिवाइस आंतरिक और बाहरी तौर पर डाटा को स्टोर करने के लिए उपयोग किया जाने वाला एक लोकप्रिय डिवाइस है। उदाहरण के तौर पर हार्ड डिस्क और ऑप्टिकल डिस्क ड्राइव, यूएसबी स्टोरेज यह सभी उपकरण सेकेंडरी स्टोरेज के उदाहरण है।

Read More :- Tally क्या है पूरी जानकारी हिंदी में।

स्टोरेज डिवाइस के कुछ मुख्य उदाहरण

1. हार्ड डिस्क

यह कंप्यूटर का एक स्टोरेज हार्डवेयर डिवाइस है। जो डाटा को स्टोर करने का काम करता है। यह कंप्यूटर के सॉफ्टवेयर ऑपरेटिंग सिस्टम और फाइलों को सहेज कर रखता है।
यह एक और परिवर्तनशील स्टोरेज डिस्क ड्राइव है। कंप्यूटर में हार्ड डिस्क ड्राइव का महत्वपूर्ण कार्य होता है। हालांकि कई कंप्यूटर में कई प्रकार के लोकल डिस्क ड्राइव का उपयोग भी किया जाता है।

2. एसएसडी

यह एक और परिवर्तनशील स्टोरेज उपकरण है। जिसका उपयोग ज्यादा मात्रा में डाटा कोई चोर करने के लिए किया जाता है। इसके अलावा इस स्टोरी उपकरण के माध्यम से डाटा को एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर तक भी ले जाया जा सकता है।

3. रैम

यह कंप्यूटर का प्रारंभिक स्टोरेज कहलाता है। यह कंप्यूटर का प्रारंभिक होता है। यह कंप्यूटर के कार्य को संपन्न करता है। यह स्टोरेज डिवाइस जो कंप्यूटर में फिक्स तौर पर लगा रहता है। इसको ना तो हम देख सकते हैं ना ही इसको हटा सकते हैं। उदाहरण के तौर पर यह एक प्रकार का सॉफ्टवेयर स्टोरेज डिवाइस है। रेम का पूरा नाम रेंडम एक्सेस मेमोरी होता है।

4. ROM

यह स्टोरेज डिवाइस कंप्यूटर का प्रारंभिक स्टोरेज डिवाइस कहलाता है। इस स्टोरेज डिवाइस की क्षमता कंप्यूटर के सभी प्रकार के डाटा को स्टार्ट करने में क्या जाता है कंप्यूटर ROM कंप्यूटर की स्पीड को बनाए रखने में भी अपनी मुख्य भूमिका निभाता है। ROM का पूरा नाम रीड ओनली मेमोरी हैं।

5. कॉम्पैक्ट डिस्क

यह एक विशेष प्रकार का स्टोरेज डिवाइस है। जो डाटा को कितनी भी बार पढ़ सकते हैं। इन पर डाटा लिखने और पढ़ने के लिए लेजर तकनीकी का उपयोग किया जाता है। इस स्टोरेज डिवाइस को ऑप्टिकल डिस्क के नाम से भी जाना चाहता है। यह प्लास्टिक की बनी डिस्क होती है।जिस पर दोनों तरफ एली मुनीम की परत लगी होती है। साधारण भाषा में इसे सीडी भी कहते हैं। सीडी की भंडारण क्षमता 680 मेगाबाइट से 800 मेगाबाइट तक होती है। सीडी के माध्यम से डाटा को स्टोर करने में खर्चा बहुत कम आता है।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page