Kya khana Chihiye

टीबी में क्या खाना चाहिए

टी.बी. होने के कारण

टी.बी. होने के कारण : दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल में टीवी बीमारी के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे साथ में टी. बी. कैसे होती है, उसके बारें में बताएंगे। इसलिए इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें।

टी.बी. होने के कारण और टी. बी. से जुड़ी संपूर्ण जानकारी हिंदी में

दुनिया का सबसे खतरनाक संक्रामक बीमारी ट्यूबरक्लोसिस या टीबी (Tuberculosis, TB)  है, लेकिन साल 2000 के बाद कई देशों के प्रयासों की वजह से टीबी (Tuberculosis, TB) से हो सकने वाली लगभग 5.4 करोड़ मौतों (TB statistics) को टाला जा सका है। 

छूत से फैलने वाली बीमारी टीबी

टी.बी. का पूरा नाम है ट्यूबरकुल बेसिलाइ। यह एक छूत का रोग है और इसे शुरुआती चरण में ना रोका गया तो यह  जानलेवा हो सकता है।  यह व्यक्ति को धीरे-धीरे मारता है। टीवी रोग को कई अलग-अलग नामों से भी जाना जाता है- तपेदिक, क्षय रोग तथा यक्ष्मा।

 टी.बी. होने के कारण

यह फेफड़े में होने वाला रोग है जो बैक्टीरिया के संक्रमण के कारण होता है।  शुरुआत में बैक्टीरिया फेफड़ों को संक्रमित करते हैं लेकिन अगर इलाज न किया गया तो यह फेफड़ों के ब्लड के बहाव से शरीर के दूसरे भागों तक फैल जाता है- जैसे, आंत, मूत्र व प्रजनन तंत्र के अंग, त्वचा और मस्तिष्क के ऊपर की झिल्ली आदि।

 टी.बी. का संक्रमण कैसे फैलता है

यह टी.बी. के बैक्टीरिया सांस से शरीर में प्रवेश करते हैं। टीबी से संक्रमित व्यक्ति के बलगम से, खांसने, बात करने, छींकने या थूकने के समय बलगम व थूक की बहुत ही छोटी-छोटी बूंदें हवा में फैल जाती हैं। हवा में बैक्टीरिया कई घंटों तक हवा में जिंदा रहती है,  इस हवा से संपर्क में अगर कोई स्वस्थ व्यक्ति आ जाए तो उसके अंदर भी बैक्टीरिया  सांस के रास्ते फेफड़ों में आ जाता जिससे कि उसे जी संक्रमण हो जाता है।

यह भी पढें :-

1. अंगूर खाने के फायदे

2. Bpl Card Kaise Banaye , बीपीएल कार्ड के लिए ऑनलाइन आवेदन

टीबी के इलाज के दौरान क्या खाएं 

टीबी का इलाज है लेकिन इलाज के साथ-साथ परहेज भी करना जरूरी है।  टीबी के इलाज के दौरान सही डाइट लेने से टीबी को  जल्द हरा सकेंगे। तो आइए जानें टीबी के मरीज को क्या खाना चाहिए- 

– सबसे जरूरी बात तो यह है क‍ि  टीबी के मरीज का खाना सादा और आसानी से पचने वाला होना चाहिए। तला-भुना खाने से बचना चाहिए।

– टीबी के रोगी (TB Patient) के खाने में हरी पत्तेदार और फली वाली सब्जियां होना बहुत जरूरी है। यह शरीर में  आयरन विटामिन  की कमी को पूरा करता है।

– इस बीमारी के दौरान फलों में शरीफा और बेरी का सेवन करें। बेरी वाला फल  इस रोग में कारगर होता है क्योंकि इसमें भरपूर पोषण होता है। इनमें विटामिन, पोटेशियम और मि‍नरल्स होते हैं।

– टीबी के मरीज के खाने में हर तरह की सब्जी को शामि‍ल  करना चाहिए। इसमें हरी सब्जि‍यां जरूर शाम‍िल करें। करेला, लहसुन, खीरा, मटर, पालक, घि‍या, टमाटर, आलू, फूल गोभी वगैरह टीबी मरीज (TB Patient) के आहार में शामि‍ल जरूर करें। 

– टीबी मरीज (TB Patient) हर दिन एक गिलास दूध पीना जरूरी है लेकिन या दूध टोंड वाला होना चाहिए यानी क्रीम निकला हुआ दूध।

– चावल, दालें, सूजी, बाली, जौ जैसे साबुत अनाज (TB Patient)  अपने डाइट में जरूर शामिल करें।

– टीबी के दौरान ओमेगा-3 फैटी एसिड लेना जरूरी है। इसके लि‍ए आप मछली, मेवे, अलसी वगैरह का इस्तेमाल कर सकते हैं।

– दोस्तों टी. बी. के मरीज के खाने में प्रोटीन होना भी बहुत जरूरी टीबी के दौरान शरीर में बहुत कमजोरी आती है और प्रोटीन इससे लड़ने की ताकत देता है। प्रोटीन के लिए मछली, तोफू, पनीर, दालें, अंडे, सोया और मांस, भी खाएं। 

टीबी में क्या नहीं खाना चाहिए (What to Avoid When You Have Tuberculosis) 

 टीम की बीमारी से लड़ने के लिए परहेज भी करना जरूरी है क्योंकि अगर शरीर का पाचन शक्ति कमजोर होगा तो सब्जी और अनाज से पोषण भरपूर नहीं मिलेगा इस तरह से टीबी के बैक्टीरिया से शरीर लड़ नहीं पाएगा।

– टीबी में गरिष्ठ भोजन यानी जो पचने में आसान ना हो उसके सेवन से बचना चाहिए  नहीं तो एसिडिटी की समस्या हो सकती है।

– कि‍सी भी तरह के नशे से खुद को दूर रखें। इसमें तंबाकू व एल्कोहोल शामि‍ल है। शराब लिवर को नुकसान पहुंचा सकती है। 

– फास्ट फूड और जंक फूड से परहेज रखना चाहि‍ए। 

–  टीवी की दवाई लेते समय अक्सर यह शिकायत होती है कि सिर दर्द होना और उल्टी आने की समस्या होती है लेकिन इसका मतलब नहीं कि टीवी की दवा खाना छोड़ दें बल्कि डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है।

– टीबी के दौरान हाई फैट, हाई कोलेस्ट्रॉल वाले  प्रोडेक्ट से दूरी बना ले इसे अपने डाइट में न शामिल करें।

–  टीबी को हम एक अच्छे डाइट से हरा सकते हैं इसके लिए अपने भोजन में  न्यूट्रिशन वाले सब्जी और अनाज लेना चाहिए।

 भारत में टीबी रोगियों की संख्या सबसे अधिक है,  हर साल 20 लाख लोग से अधिक इस संक्रमण के चपेट में आते हैं। इस कारण से इसके संक्रमण का खतरा हमेशा  बना रहता है साफ-सफाई से  इसके संक्रमण से बचा जा सकता है।  अगर आपका इम्यून सिस्टम मजबूत है तो आप कई तरह की बीमारियों से भी बचे रह सकते हैं।  टीबी के इलाज के दौरान कोर्स वाली दवाओं का नियमित सेवन करना चाहिए लापरवाही ठीक नहीं है नहीं तो समस्या और बढ़ सकती है।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page