Trending News

Triple Talaq Bill Passed in Rajya Sabha | क्या है निकाह हलाला

मुसलमानों में एक बार तलाक हो जाए तो पत्नी को दोबारा पाने के लिए यही एक तरीका बचता है.पत्नी को दोबारा हासिल करने के लिए और उससे निकाह करने के लिए उसकी पत्नी को किसी दूसरे मर्द से शादी करनी होती है और शारीरिक संबंध बनाने होते हैं और फिर यदि वो ‘खुला’ या तलाक़ के ज़रिए अलग हो जाते हैं तो वो अपने पहले पति से दोबारा शादी कर सकती है. इसे हलाला कहते हैं| जाने-माने क़ानूनविद प्रोफ़ेसर ताहिर महमूद कहते हैं कि अगर मुसलमान मर्द अपनी पत्नी को तलाक़ दे देता है और वो महिला दूसरी शादी कर लेती है और अगर महिला के दूसरे पति की मौत हो जाती है या उन दोनों में भी तलाक़ हो जाए तो वो महिला अपने पहले पति से शादी कर सकती है. अगर महिला और उनके पहले पति आपसी रज़ामंदी से शादी करना चाहें तो इस्लाम इसकी इजाज़त देता है|

Triple Talaq Bill passed in Rajya Sabha:-
मुस्लिम महिलाओं और मोदी सरकार दोनों के लिए मंगलवार का दिन एेतिहासिक था। इसका कारण है तीन तलाक बिल का राज्य सभा में पास होना। इस कुप्रथा के खत्म होने के साथ-साथ मुस्लिम महिलाओं का मोदी सरकार पर भरोसा और उम्मीद दोनों बढ़ गई है। भरोसा इसलिए क्योंकि भाजपा की संघर्ष से उन्हें सदियों से चली आ रही इस कुप्रथा से आजादी मिल गई, तो वहीं उम्मीद इसलिए बढ़ गई है क्योंकि अब ये महिलाएं इस इंतजार में हैं कि तीन तलाक के बाद निकाह हलाला और बहुविवाह जैसी कुप्रथा खत्म हो।

मोदी सरकार इन दो कुप्रथाओं को लेकर भी गंभीर है। चुनाव से पहले अपने संकल्प पत्र में तीन तलाक, निकाह हलाला जैसी प्रथाओं पर रोक लगाने के लिए कानून पारित करने का संकल्प व्यक्त किया था। ऐसे मे अब उसके पास तीन तलाक पर रोक लगाने के बाद उसकी निगाह निकाह हलाला और बहुविवाह पर होगी। बता दें कि दोनों मुद्दों पर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई है। 12 जुलाई को दोनों मामलों के खिलाफ दायर याचिकाओं पर जल्द सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट ने इन्कार कर दिया था। भाजपा नेता व वकील अश्विनी कुमार उपाध्याय ने इस दौरान चीफ जस्टिस रंजन गोगई की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ के सामने मामले का उल्लेख करते हुए जल्द सुनवाई की गुहार लगाई थी, लेकिन पीठ ने इस आग्रह को ठुकरा दिया था। पीठ ने कहा कि वह संविधान पीठ का जल्द गठन करने की स्थिति में नहीं हैं। गौरतलब है कि इस मामले में केंद्र सरकार को पहले ही नोटिस जारी किया जा चुका है। पिछले साल जुलाई में इस मामले को बड़ी पीठ के पास भेज दिया गया था।Triple Talaq Bill Passed in Rajya Sabha
तलाक की हकीकत:-
यूं तो तलाक़ कोई अच्छी चीज़ नहीं है और सभी लोग इसको ना पसंद करते हैं इस्लाम में भी यह एक बुरी बात समझी जाती है लेकिन इसका मतलब यह हरगिज़ नहीं कि तलाक़ का हक ही इंसानों से छीन लिया जाए,पति पत्नी में अगर किसी तरह भी निबाह नहीं हो पा रहा है तो अपनी ज़िदगी जहन्नम बनाने से बहतर है कि वो अलग हो कर अपनी ज़िन्दगी का सफ़र अपनी मर्ज़ी से पूरा करें जो कि इंसान होने के नाते उनका हक है, इसी लिए दुनियां भर के कानून में तलाक़ की गुंजाइश मौजूद है. और इसी लिए पैगम्बरों के दीन (धर्म) में भी तलाक़ की गुंजाइश हमेशा से रही है.




कुरआन ने इसे कुछ यूं बयान किया है –
“और अगर तुम्हे शोहर बीवी में फूट पड़ जाने का अंदेशा हो तो एक हकम (जज) मर्द के लोगों में से और एक औरत के लोगों में से मुक़र्रर कर दो, अगर शोहर बीवी दोनों सुलह चाहेंगे तो अल्लाह उनके बीच सुलह करा देगा, बेशक अल्लाह सब कुछ जानने वाला और सब की खबर रखने वाला है” (सूरेह निसा-35)
इसके बावजूद भी अगर शोहर और बीवी दोनों या दोनों में से किसी एक ने तलाक का फैसला कर ही लिया है तो शोहर बीवी के खास दिनों (Menstruation) के आने का इन्तिज़ार करे, और खास दिनों के गुज़र जाने के बाद जब बीवी पाक़ हो जाए तो बिना हम बिस्तर हुए कम से कम दो जुम्मेदार लोगों को गवाह बना कर उनके सामने बीवी को एक तलाक दे, यानि शोहर बीवी से सिर्फ इतना कहे कि ”मैं तुम्हे तलाक देता हूँ”.
क्या है खुला…?:-
अगर सिर्फ बीवी तलाक चाहे तो उसे शोहर से तलाक मांगना होगी, अगर शोहर नेक इंसान होगा तो ज़ाहिर है वो बीवी को समझाने की कोशिश करेगा और फिर उसे एक तलाक दे देगा, लेकिन अगर शोहर मांगने के बावजूद भी तलाक नहीं देता तो बीवी के लिए इस्लाम में यह आसानी रखी गई है कि वो शहर काज़ी (जज) के पास जाए और उससे शोहर से तलाक दिलवाने के लिए कहे, इस्लाम ने काज़ी को यह हक़ दे रखा है कि वो उनका रिश्ता ख़त्म करने का ऐलान कर दे, जिससे उनकी तलाक हो जाएगी, कानून में इसे ”खुला” कहा जाता है.यही तलाक का सही तरीका है लेकिन अफ़सोस की बात है कि हमारे यहाँ इस तरीके की खिलाफ वर्जी भी होती है और कुछ लोग बिना सोचे समझे इस्लाम के खिलाफ तरीके से तलाक देते हैं जिससे खुद भी परेशानी उठाते हैं और इस्लाम की भी बदनामी होती है|
ये भी पढ़ें:-
राजस्थान देवनारायण छात्रा स्कूटी वितरण योजना

Berojgari Bhatta Form Rajasthan 

फ्री लैपटॉप योजना राजस्थान 2021



लेटेस्ट गवर्नमेंट जॉब देखें 
घर बैठे प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करें 
सभी प्रकार की सरकारी योजना देखें 
Free Head Writing Notes , Test Series  Download Now 
Subscribe Our Telegram Channel

Subscribe Our YouTube Channel

Follow On Instagram

like our facebook page

 अपने परिवार दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें ताकि भारत में अभी भी बहुत सारे परिवार हैं जो भारतीय गवर्नमेंट द्वारा चलाई जा रही योजना के बारे में पता नहीं है| जिस कारण बहुत सारे परिवार ऐसी योजनाओं से वंचित रह जाते हैं|
Get 90% OFF On All 1 Year Hosting Plan Buy Now
लेटेस्ट अपडेट पाने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करें Subscribe Now
अब आप  फॉलो को Google News App पर Follow Now
कैसा लगा हमारा ये आलेख, अगर आपको अच्छा लगे तो अपने दोस्तों के साथ इस पोस्ट को शेयर जरूर करें

Leave a Comment

You cannot copy content of this page