Rajfed Registration 2021-22 Rajasthan मूंग, मूंगफली, उड़द, सोयाबीन समर्थन मूल्य पर खरीद

0

Rajfed Registration 2021-22 : राजस्थान में अब फसल निकाली गई है और उस फसल को किसान द्वारा बहुत ही आसानी से बचा जा सकता है राज फिर रजिस्ट्रेशन करके अपनी फसल को बेच सकता है

Rajfed Registration 2021-22 Rajasthan मूंग, मूंगफली, उड़द, सोयाबीन समर्थन मूल्य पर खरीद

बहुत से राज्यो में समर्थन मूल्य पर उड़द, मूगफली,मूग और धान के साथ राज्यो में जो भी खरीफ की फसल तैयार हो चुकी है। उसकी बिक्री शुरू हो चुकी है। बेचने के लिए किसान को पंजीकरण करवाना होता है। जिन लोगो का रजिस्ट्रेशन नही हुआ है वो लोग अपना रजिस्ट्रेशन करवा कर अपनी फसल को अच्छे दामों में बेच सकते है। आपको पता ही होगा की किसानों को अपनी फसल को समर्थन मूल्य पर बेचने के लिए रजिस्ट्रेशन करवाना होता है। यदि किसी का पंजीकरण नही है तो उसकी फसल मंडी की समर्थन मूल्य पर नही खरीदी जाएगी।

बात करते है राजस्थान राज्य की तो यहां पर भी फसलों को समर्थन मूल्य पर बेचने का काम शुरू हो चुका है। इसके लिए सभी किसानों को सबसे पहले अपना पंजीकरण करवाना होगा। जो की 20 अक्टूबर से शुरू हो चुके है। राजस्थान राज्य में केंद्र सरकार ने उड़द 71.55 हजार, सोयाबीन 2.92 लाख, मूग की 3.75 लाख मीट्रिक टन और मूँगफली की 3.74 लाख मीट्रिक टन को खरीदने की मंजूरी प्रदान की है। यदि किसानों का रजिस्ट्रेशन नही होगा तो वो समर्थन मूल्य पर अपनी फसल को नही बेच पाएंगे।

1.) उड़द का समर्थन मूल्य :- 6000 रुपये प्रति क्विंटल
2.) मूंग का समर्थन मूल्य :- 7196 रुपये प्रति क्विंटल
3.) मूंगफली का समर्थन मूल्य :- 5275 रुपये प्रति क्विंटल
4.) सोयाबीन का समर्थन मूल्य :- 3880 रुपये प्रति क्विंटल

खरीद केंद्र पर फसल को कब बेच सकेंगे:-

राजस्थान में 800 से अधिक खरीद केंद्र स्थापित किए गए हैं जिसमें अभी किसानों के रजिस्ट्रेशन का कार्य चल रहा है 1 नवंबर से फसलों की खरीदने का कार्यक्रम शुरू हो जाएगा। हालांकि यहां पर आप 1 नवंबर को मूंग उड़द और सोयाबीन को भेज सकते हैं। मूंगफली को बेचने के लिए आपको 18 नवंबर तक का इंतजार करना होगा। फसल के हिसाब से अलग-अलग केंद्र बनाए गए हैं जिसमें मूंग की फसल के लिए 365, उडद के लिए 161, सोयाबीन के 79 और मूँगफली के 266 केंद्र बनाये गए है। सरकार ने पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष 500 से अधिक केंद्र बनाए है।

किसान अपना पंजीकरण कैसे करवाये:-

किसानों को किसी भी प्रकार की असुविधा ना हो इसके लिए सरकार ने पूरे इंतजाम करें हैं किसान अपना पंजीकरण ई-मित्र और खरीद केंद्र पर सुबह 9:00 बजे से लेकर शाम 7:00 बजे तक करवा सकता है किसानों को एक बात का और ध्यान रखना होगा कि वह जिस तहसील में रहते हैं वहीं पर अपनी फसल को बेचे। यदि उन्होंने दूसरी तहसील के लिए रजिस्ट्रेशन किया है तो उनका पंजीकरण अमान्य माना जाएगा।

पंजीकरण कराते समय किसानों को एक बात का और ध्यान रखना हो क्या होगा कि जो जन आधार कार्ड में नाम अंकित हो उसी से पंजीकरण करवाये। साथ ही इस बात का भी विशेष ध्यान रखना होगा कि आप जो नंबर पंजीकृत करवाएं वह जन आधार से लिंक होना चाहिए और जो आप अकाउंट नंबर दे वह भी चालू होना चाहिए। जिससे आपको ऑनलाइन भुगतान में किसी भी प्रकार की कोई भी समस्या उत्पन्न ना हो।

Read Also :- बेरोजगारी भत्ता आय प्रमाण पत्र फार्म PDF

रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए आवश्यक दस्तावेज़:-

पंजीकरण करवाने के लिए किसानों के पास निम्न दस्तावेज होने चाहिए-

खसरा नंबर

जन आधार कार्ड

बैंक पासबुक

गिरदावरी की प्रति

यह सभी दस्तावेज आप अपने पास के ई-मित्र की दुकान पर जाकर अपना ऑनलाइन आवेदन करवा सकते हैं।

समर्थन मूल्य पर पंजीकरण हेतु समस्या समाधान हेतु टोल फ्री नम्बर किसानों की समस्या के समाधान हेतु राजफैड स्तर पर ट्रोल फ्री हेल्पलाईन नंबर 1800-180-6001 पर प्रात: 9 से 7 बजे तक किसान अपनी समस्याओं को हेल्पलाईन नंबर पर दर्ज करा सकते हैं |

Get 90% OFF On All 1 Year Hosting Plan Buy Now
लेटेस्ट अपडेट पाने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करें Subscribe Now
अब आप  फॉलो को Google News App पर Follow Now
कैसा लगा हमारा ये आलेख, अगर आपको अच्छा लगे तो अपने दोस्तों के साथ इस पोस्ट को शेयर जरूर करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here