Sarkari Yojana

घर घर औषधि योजना 2021: पूरी जानकारी हिंदी में

Join Telegram Channel Now

घर घर औषधि योजना 2021 : दोस्तों देश के लोगों को स्वस्थ रखने के लिए केंद्र सरकार तथा राज्य सरकार अपने स्तर पर नई नई योजनाएं लागू करती रहती है। जिससे किसी भी प्रकार की कोई बीमारी न फैल सके। आपको तो पता ही होगा इस समय प्रत्येक देश में करोना जैसी महामारी फैली हुई है और काफी सारे लोग इस वायरस की वजह से अपने प्राण त्याग चुके हैं। ऐसे में राज्य सरकार और केंद्र सरकार अपने स्तर पर नई-नई योजनाओं को लागू कर रही है।

कोरॉना महामारी की वजह से सरकार स्वास्थ्य विभाग को मजबूत करने के उद्देश्य से नई योजनाएं लागू कर रही है। ऐसे में सभी राज्य सरकारें अपने अपने राज्य मे योजनाएं लागू करती रहती है। इसी महामारी के बीच राजस्थान राज्य ने भी एक नई योजनाओं की शुरुआत की है। इस योजना का नाम है घर घर औषधि योजना। राज्य मे रहने वाले सभी लोगो को इस योजना का लाभ दिया जाएगा।

राजस्थान की घर घर औषधि योजना क्या है तथा इसमें ऑनलाइन आवेदन कैसे किया जा सकता है और पात्रता होने की क्या क्या शर्ते हैं। इन सब के बारे में आपको पूरी जानकारी इस आर्टिकल में पढ़ने को मिलेगी। इसलिए आप यह आर्टिकल अंत तक पढ़े।

घर-घर औषधि योजना 2021 क्या है

जैसा कि आपको नाम से पता चल रहा है की यह योजना लोगो के स्वास्थ्य को लेकर बनाई गई है। इस योजना को प्रारंभ 5 जुलाई 2021 को किया गया है। और घर घर औषधि योजना को राजस्थान के वन विभाग द्वारा चलाया जाता है। इस योजना के द्वारा राज्य में रहने वाले सभी लोगों को औषधिय पौधे दिए जायेगे। जैसे तुलसी, अश्वगंधा, गिलोय और कालमेघ शामिल है।

घर-घर औषधि योजना के माध्यम से इन पौधों को निशुल्क वितरित किया जाता है जिससे सभी लोग अपने घरों में इन पौधों को लगा पाएंगे। राजस्थान सरकार के बजट 2021- 2022 के अनुसार इस योजना के बारे में पता चला है।

राज्य के जिले में वितरित होने वाले पौधे की संख्या के बारे में पहले ही बता दिया जाता है। अगर इन पौधे की बात करे तो राजस्थान के वन विभाग के के द्वारा इन पौधों को नर्सरी में पनपाया जाता है। अब इस योजना के आ जाने से वन विभाग को अत्यधिक पौधे लगाने की जरूरत होगी। राजस्थान राज्य में 33 जिले है। और सरकार की योजना के अनुसार लगभग सभी लोगो के घरो मे इन पौधों को पहुचाना जरूरी है।

घर-घर औषधि योजना का मुख्य उद्देश्य क्या है

जैसा कि आपको पता ही होगा कि देश में कोरोना महामारी से काफी लोगों ने अपने प्राण गवाएं थे लेकिन जिन लोगों की इम्युनिटी अच्छी थी वह लोग अपनी जान बचा सके हैं। इम्युनिटी अच्छी होने से वह बीमार होने के बावजूद भी दोबारा से स्वस्थ हो चुके हैं। लेकिन जिन लोगो की इम्युनिटी बहुत कमजोर थी। उन लोगो ने महामारी मे अपने घुटने टेक दिए और अपनी जान गवा दी।

अब आने वाले समय में इस प्रकार की महामारी आने का खतरा बरकरार है। इसलिए प्रत्येक राज्य के लोग अपने लोगों को स्वस्थ रखने के लिए अब नई नई सांस संबंधी योजनाओं को लागू कर रहे हैं। आने वाले समय में लोग किसी महामारी का शिकार ना हो इसके लिए राजस्थान सरकार ने अपने लोगो को स्वास्थ्य रखने के लिए और उनको स्वास्थ्य रखने के लिए उनको जागरूक कर रही है।

अपने आयुर्वेद मे तुलसी, गिलोय, अश्वगंधा और कालमेघ जैसे औषधिय पौधों को इम्युनिटी बढ़ाने के लिए अच्छी औषधि बताया गया है। राजस्थान सरकार का आदेश है कि सभी लोग अपने अपने घरों में इन 4 पौधों को लगाएं और अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाएं। जिससे उन्हें किसी भी प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी बीमारी ना होने पाए।

इन 4 औषधिय पौधों को अपने घरों में लगाएं तथा दैनिक रूप से इनका इस्तेमाल करे। इस कारण से इस योजना को शुरू किया गया है।

घर-घर औषधि योजना से लाभ

इस योजना से बहुत सारे लाभ होने वाले हैं इसके लिए आप नीचे दिए गए बिंदुओं को ध्यान से पढ़ें।

  • इस योजना को 2021 से 2024 तक चलाया जाएगा।
  • राजस्थान राज्य के लोगों को ही इस योजना में शामिल होने का अवसर मिलेगा।
  • राजस्थान वन विभाग के नर्सरी में इन पौधों को लगाया जाएगा तथा अन्य सभी लोगों को इन पौधों को फ्री में राजस्थान राज्य के लोगो को घर में लगाने के लिए दिया जाएगा।
  • इस तरह राज्य के परिवार घरों में औषधीय पौधों के लग जाने से जागरूक भी होंगे।
  • सभी लोगों को औषधि पेड़ों के बारे में अधिक जानकारी भी प्राप्त होगी और वह दूसरे लोगों को भी इन पौधों को लगाने के लिए प्रेरित करेंगे।
  • औषधि पौधों का उपयोग करने से राज्य के सभी लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता अत्यधिक मजबूत होगी जिससे वो भिन्न भिन्न प्रकार की बीमारियों से लडने मे सफल हो पाएंगे।
  • राजस्थान राज्य के सभी पंचायत, नगर पालिका, नगर निगम तहसील समेत अन्य विभागों के माध्यम से इन औषधिय पेड़ों का वितरण किया जाएगा।

इसके अलावा औषधि पेड़ों को कहां से ले सकते हैं

यदि आपको पंचायत नगर पालिका नगर निगम या अन्य किसी माध्यम से आपको औषधि प्राप्त नहीं हो पा रहे हैं तो आप अपने जिले के वन विभाग में जाकर वहां से अपनी आईडी कार्ड को दिखाकर औषधि पेड़ों को प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए आपको किसी प्रकार का शुल्क नहीं देना पड़ेगा और आप पौधों को लगाने के लिए दूसरों को भी जागरूक कर सकते हैं।

अभी तक इस योजना के माध्यम से करीब 20000 लोगों को इस योजना का लाभ मिल चुका है अब राजस्थान सरकार गांव गांव जाकर लोगों को जागरूक तथा उन्हें पौधे दे रही है इससे काफी ज्यादा लोग अपने घरों में पौधे लगाना शुरू कर चुके हैं ऐसा जरूरी नहीं कि आप इन पौधों को घर में ही लगाएं आप अपने किसी भी खाली पड़ी जमीन में इन पौधों को लगा सकते हैं। लेकिन इसमें आपको इनकी अत्यधिक देखभाल करनी होगी।

तुलसी का प्रयोग आजकल सर्वाधिक रूप से किया जाता है। आजकल सभी लोग इसको काडे रूप में अधिक करते है। और गिलोय से आप अपनी इम्युनिटी को बड़ा सकते है। इससे आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी।

Read Also :- मुख्यमत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना 2021

Conclusion

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने घर-घर औषधि योजना के बारे में संपूर्ण जानकारी दी है। आशा करता हूं यह लेख आपके लिए उपयोगी साबित होगा। और इस योजना का लाभ आप घर बैठे ले सकते है। आज के इस आर्टिकल से संबंधित आपको कोई भी सवालिया समस्या हो तो आप हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताएं

Important Link 
Join Our Telegram Channel 
Follow Google News
PhonePe App Download : जाने इस आसान तरीके से आप कमा सकते है हर दिन 300 रुपये

Leave a Comment