Bimari

घमौरी का साबुन इलाज, दवा, उपचार

घमौरी के लक्षण

घमौरी के चपेट में बच्चों से लेकर वृद्ध तक आ जाते हैं। जैसे सभी को ज्ञात है ,कि ग्रीष्म ऋतु में हवा शुष्क एवं उमस से भरी होती है। इस ऋतु के आगमन के साथ ही तरह-तरह की बीमारियां भी साथ में दस्तक देती है ।उन्हीं में से एक व्याधि का नाम घमौरी है। इसे मिलियारिया रूब्रा, मिलियारिया क्रिस्टलाइन, प्रिक्ली हीट आदि नामों से जानी जाती है ।घमौरी जैसा कि नाम से इस बात का स्पष्टीकरण हो जाता है कि जब किसी व्यक्ति के शरीर में छोटे -छोटे दाने उभर आए साथ ही बहुत अधिक गर्मी पड़ने पर शरीर के कुछ हिस्सों में उभरे हुए  लाल रंग  दाने  दिखाई पड़े इस व्याधि को हम घमौरी के नाम से जानते हैं।घमौरी होने पर व्यक्ति को ठीक करने के लिए सार्थक उपाय करने चाहिए नहीं तो यह भावी समय में यह घाव का रूप धारण कर लेती है ।घमौरी होने पर व्यक्ति को खुजली होती है, लगातार खुजलाने से घाव होने की संभावना बनी रहती है ।हालांकि घमौरी  से व्यक्ति को कुछ दिनों में ही मुक्ति मिल जाती है। परंतु इसे हल्के में ना लें नहीं तो यह घाव के रूप में उभर कर आती है घमौरियों का पाउडर , घमौरी का साबुन , घमौरियों का रामबाण इलाज , बीमारियों के लक्षण , What is Heat Rash, Symptoms, causes, Diagnosis, treatment and prevention in Hindi घमौरियों के उपाय

घमौरियों के लक्षण:- 

1)घमौरी अधिकाशतः का पेट, कमर, गर्दन के हिस्सों में इसका प्रभाव सर्वाधिक होता है।

2)घमौरी से प्रभावित अंगों में निरंतर खुजली की शिकायत होती है।

3)घमौरी से प्रभावित हिस्से में छोटे- छोटे लाल रंग के दाने उभर आते हैं।

4)घमौरी  प्रभावित वाले क्षेत्रों में जलन महसूस होती है।

5)घमौरी होने पर व्यक्ति को निरंतर पसीना आता रहता है।

6) घमौरी से प्रभावित  अंगों के संपर्क में  आते ही चुभन सी महसूस होती है ।जैसे कपड़ों को पहनते  व्यक्ति को प्रायः खुजली होने लगती है।

घमौरी से बचाव एवं रोकथाम कैसे करें :- 

1)जितना अधिक संभव हो सके, सूर्य की किरणों के संपर्क में आने से बचें, ठंडे स्थान पर रहने का प्रयास करें।

2)घमौरी से बचने के लिए गर्मियों में सूती वस्त्र एवं ढीले- ढाले कपड़े पहने।

3)कोई ऐसी क्रिया में हिस्सा ना ले ,जिससे आपको अधिक पसीना आने लगे।

4)सोने के लिए ऐसे स्थान का चुनाव करें ,जहां निरंतर शुद्ध हवा मिलती रहे ,कमरों में रोशनदान अवश्य रुप से हो

5)घमौरी के खात्मे के लिए क्रीम या लोशन लगाएं ।बाजार में ‘कैलेमाइन लोशन’ उपलब्ध होता है ।घमौरियों को खत्म करने के लिए आप इस लोशन प्रयोग कर सकते हैं।

6)घमौरियों से निजात पाने के लिए तरल  पेय पदार्थों का सेवन करें ,जैसे जूस ,शरबत आदि।

7)नारियल का पानी पीने से भी घमौरियों से छुटकारा पाया जा सकता है।

8)घमौरियों में साबुन का प्रयोग डॉक्टर की सलाह अनुसार करें

मानसूनी फल भी घमौरियों से निपटने में सहायक सिद्ध होते हैं जैसे कि तरबूज ,खीरा, पपीता, तरबूज ,ककड़ी आदि।

घमौरी का इलाज कैसे करे:- 

यदि किसी व्यक्ति को घमौरियों की शिकायत है ,तो इस स्थिति में सर्वप्रथम उसे डॉक्टर से मिलकर दवा लेना चाहिए। घमौरियों से निजात पाने के लिए आजकल होम्योपैथिक दवा भी काफी असरदार साबित हो रही है ।एक बात विशेष तौर पर ध्यान रखना चाहिए ,कि आप स्वयं चिकित्सक ना बने। डॉक्टर की सलाह अनुसार ही दवा ले। घमौरी से छुटकारा पाने के लिए आजकल तरह-तरह के पाउडर भी काफी फायदेमंद है।

घमौरी से छुटकारा पाने  के लिए कुछ घरेलू इलाज:- 

1)नारियल के तेल में कपूर को पूर्ण रूप से मिला ले ,उसके उपरांत घमौरियों से प्रभावित हिस्सों में लगाएं, इससे काफी राहत मिलेगी मिलेगी।

2)घमौरियों के निदान के लिए आप कच्चे आम को हल्की आंच में भूनकर इसके गूदे को निकाल कर रख लें, फिर इसे घमौरी से प्रभावित अंगों में लगा दे ।यह घमौरियों को जड़ से खत्म कर देगा।

3)चंदन को घिसकर इसका लेप तैयार कर ले में । फिर से घमौरियों के ऊपर लगाएं। यह काफी लाभकारी होता है। घमौरियों को तो यह ठीक करता है इसके साथ यह लेप शरीर को शीतलता प्रदान करता है।

4)घमौरियों से निजात पाने के लिए पानी में  नीबू का   रस मिला ले ,फिर खीरे के छोटे-छोटे टुकड़ों में विभाजित करके उस पर नींबू और पानी का रस का छिड़काव करें । उसके पश्चात इसे धीरे-धीरे घमौरियों से प्रभावित हिस्सों पर  लगाएं ।यह काफी कारगर उपाय है।

5)यदि आप घमौरी से छुटकारा चाहते हैं ,तो मुल्तानी मिट्टी मैं गुलाब जल को अच्छे से मिला ले। फिर इसे प्रभावी हिस्सों पर लगाएं यह जल्दी ही आपको राहत  पहुंचाएगा।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page