Digital Tips IT Tips

रेडियो फ्रीक्वेंसी क्या हैं

रेडियो फ्रीक्वेंसी क्या हैं

आज के समय में हम कई प्रकार के वायरलेस उपकरण का उपयोग करते हैं। इन वायलेंस उपकरणों में से ज्यादातर उपकरण radio-frequency कार्य प्रणाली पर आधारित है। radio-frequency एक ऐसी तकनीकी है। जिसमें तरंगों के माध्यम से एक दूसरे को कनेक्ट किया जाता है। रेडियो फ्रीक्वेंसी क्या हैं, रेडियो फ्रीक्वेंसी कैसे काम करती है , How Radio Frequency Work , रेडियो फ्रीक्वेंसी की कार्यप्रणाली , Applications of radio Frequency , Features of radio Frequency , How Radio Frequency Works , Radio Frequency Radio frequency technology What is Radio Frequency hindi , What is Radio Frequency in hindi ,

रेडियो फ्रीक्वेंसी के कारण आज के समय में कई ऐसे उपकरण है। जिन्हें बिना वायर के उपयोग किया जा सकता है और एक दूसरे से कनेक्ट किया जा सकता है। आपने ब्लूटूथ और वाईफाई का उपयोग आवश्यक क्या होगा यह दोनों उपकरण रेडियो फ्रीक्वेंसी के आधार पर ही एक दूसरे डिवाइस से कनेक्ट होते हैं। रेडियो फ्रीक्वेंसी कई हद तक टेक्नोलॉजी को बढ़ावा देती हुई नजर आती है। आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से रेडियो फ्रीक्वेंसी के बारे में बात करेंगे।
रेडियो फ्रीक्वेंसी क्या हैं:-  रेडियो फ्रीक्वेंसी एक प्रकार का माप है। जो विद्युत चुंबकीय विकिरण स्पेक्ट्रम और विद्युत चुंबकीय तरंगों के बीच होने वाली दोलन का प्रतिनिधित्व करती है। रेडियो फ्रीक्वेंसी की एक निश्चित दोलन दर निर्धारित होती है। रेडियो फ्रीक्वेंसी 300 GHz से 9 kHz तक की होती है।
रेडियो फ्रीक्वेंसी एंटीना तथा ट्रांस मित्रों के उपयोग से 1rf क्षेत्र का निर्माण होता है। इन रेडियो फ्रीक्वेंसी के जरिए बनने वाले आरक्षित का उपयोग विभिन्न प्रकार के वायरलेस उपकरणों को चलाने में किया जाता है। वायरलेस प्रसारण और संचार की प्रक्रिया इस प्रकार की रेडियो फ्रीक्वेंसी की वजह से ही संपन्न हुई है।
रेडियो फ्रीक्वेंसी का उपयोग हर प्रकार के क्षेत्रों में क्या जा रहा है। हालांकि सूचना और संचार की तकनीकी में radio-frequency की बात की जाए,तो वहां पर radio-frequency की बजाय वायरलेस दूरसंचार सिग्नल ज्यादा उपयोग किए जा रहे हैं। फ्रिकवेंसी बैंड को अलग-अलग प्रकार से कई भागों में विभाजित किया जा रहा है। जिसे बाद में तकनीकी उद्योगों तक पहुंचाया जाएगा। इसे रेडियो स्पेक्ट्रम के नाम से जाना जाता है। रेडियो फ्रीक्वेंसी उपकरणों की बात की जाए तो मोबाइल फोन,वायरलेस लेन, ब्लूटूथ, टीवी, लेड रेडियो इत्यादि।
रेडियो फ्रीक्वेंसी की कार्यप्रणाली:-  रेडियो फ्रीक्वेंसी को Hz नामक इकाइयों के अंतर्गत मापा जाता है। इन इकाइयों के माध्यम से ही पता चलता है, कि radio-frequency द्वारा उत्पन्न हुई ध्वनि कितनी तीव्र है। रेडियो तरंग के संचालित होने पर प्रति सेकंड चक्रों की संख्या भी he इकाई द्वारा मापी जाती है। माइक्रोवेव एक प्रकार का रेडियो तरंग है। जिसमें उच्च radio-frequency या होती है। माइक्रोवेव की रेडियो फ्रीक्वेंसी को मनुष्य अपनी आंखों से कभी नहीं देख सकता है।
कई प्रकार की वायरलेस उपकरण जो radio-frequency के अंतर्गत आ रहे फील्ड का उपयोग करते हैं। इस radio-frequency के कारण कई प्रकार के उपकरण जो आज के समय में हम इस्तेमाल कर रहे हैं। इनका निर्माण संभव हो पाया है। जैसे:- ब्लूटूथ,टीवी रिमोट, वायर लेस कंप्यूटर कीबोर्ड, मोबाइल फोन, टेलीविजन, वाईफाई इत्यादि।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page