CM Sarkari Yojana Sarkari Yojana

Annapurna Yojna In hindi

Rajasthan Annapurna Doodh Yojana in Hindi

इस आलेख में अन्नपूर्णा दूध योजना राजस्थान, Annapurna Yojna In hindi,अन्नपूर्णा दूध योजना राजस्थान के मुख्य बिंदु,अन्नपूर्णा दूध योजना के लाभ,दूध उपलब्ध करने वाले स्रोत,अन्नपूर्णा दूध योजना के महत्वपूर्ण दिशा निर्देश, Rajasthan Annapurna Doodh Yojana in Hindiआदि के बारे में विस्तार से बताया गया है |

अन्नपूर्णा दूध योजना राजस्थान (Annapurna Yojna In hindi):

राजस्थान सरकार अन्नपूर्णा दूध योजना को सख्ती से लागू करने के लिए कार्यरत है | राज्य सरकार डेयरी विभाग से सलाह के बाद दूध की उत्पादकता बढ़ाने के लिए तेजी से काम कर रही है | गांव के सरकारी स्कूलों / मदरसों में पढ़ने वाले बच्चों को सही मात्रा में प्रोटीन प्रदान हो और कुपोषण का शिकार ना हों राजस्थान अन्नपूर्णा दूध योजना को सुदृढ़ करने पर ध्यान दे रही है | योजना के तहत ग्रामीण और सहरी सरकारी स्कूल और मदरसों में मिड डे मील में पौष्टिक भोजन के साथ-साथ गर्म और ताजा दूध प्रदान किया जायेगा | बच्चों की सेहत का ध्यान रखते हुए सरकार विभिन्न विभागों को साथ लेकर पुनर्विचार कर रही है |राज्य सरकार सरकारी स्कूलों में बच्चो के नामांकन को बढ़ाने के नजरिये से राजस्थान अन्नपूर्णा दूध योजना को सही और सुदृढ़ तरीके से लागू करने पर ध्यान दे रही है | सरकारी स्कूलों में बच्चों में सही मात्रा में प्रोटीन क्षमता बनी रहे इसके लिए सरकार अन्नपूर्णा दूध योजना को और प्रभावशाली बनाने के लिए तत्पर है | राजस्थान सरकार डेयरी विभाग के अधीन आने वाली सरस डेरी को संघ्यान में लेकर अन्नपूर्णा दूध योजना को लाभान्वित बच्चो को पहुँचाने के लिए प्रतिबद्ध है | कक्षा 1 से 5 तक के बच्चों को 150 मिलीग्राम दूध और कक्षा 6 से 8 तक के बच्चों को 200 मिलीग्राम दूध प्रतिदिन पिलाया जायेगा

अन्नपूर्णा दूध योजना राजस्थान(Annapurna Yojna In hindi) के मुख्य बिंदु:-

1.)सरकारी स्कूलों और मदरसों में बच्चों को मिड डे मील के साथ प्रतिदिन दूध पिलाया जाएगा
2.)योजना के तहत प्रतिदिन जिलेभर के लाखों बच्चों को इस योजना का लाभ दिया जायेगा |
3.)व्यवस्था के तहत स्कूलों के शिक्षक, कुक कम हेल्पर और सहायकों को भी प्रोत्साहित किया जायेगा
4.)योजना के तहत प्रतिदिन हजारों लीटर दूध की आवश्यकता पूरी करने के लिए डेरी विभाग पर अतिरिक्त भार ना पड़े सरकार कदम उठाएगी |
5.)योजना के तहत दूध वितरण करने वाले एजेंसी, पशुपालक और स्वयं सहायता समूह को रोजगार का मौका मिलेगा |

यह भी जाने :-

अन्नपूर्णा दूध योजना के लाभ:-

1.)कक्षा 1 – 5 के बच्चों को 150 एम एल
2.)कक्षा 6 – 8 के बच्चों को 200 एम एल
3.)प्रदेश के सभी सरकारी स्कूलों और मदरसों में योजना का लाभ दिया जायेगा|
4.)65 लाख से ज्यादा बच्चों को अन्नपूर्णा योजना का लाभ दिया जायेगा|
5.)ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों से दूध ख़रीददारी का भाव भी बढ़ने की अपेक्षा की जा रही है|

दूध उपलब्ध करने वाले स्रोत:-

1.)रजिस्टर्ड दूध उत्पादक सहकारी समिति।
2.)महिला स्वयं सहायता समूह
3.)अन्य स्वयं सहायता समूह
4.)अन्य वैकल्पिक स्रोत
5).शहरी क्षेत्र में सरस डेयरी बूथ

अन्नपूर्णा दूध योजना के महत्वपूर्ण दिशा निर्देश:-

1.)योजना में बच्चों को दूध उबाल कर दिया जाएगा
2.)जिन बर्तनों का उपयोग किया जाए कि उसे विशेष रूप से साफ-सुथरे होने चाहिए।
3.)बच्चों को दूध देने से पहले उनकी गुणवत्ता को परखा जाएगा।
4.)दूध खराब होने की स्थिति में वितरण को रोक दिया जाएगा।
5.)दूध वितरण प्रार्थना सभा के तुरंत बाद किया जाएगा।

Official website अधिक जानकारी के लिए अधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं।
http://rajssa.nic.in/School/School_Home.aspx
समाधान के लिए इस दूरभाष पर बात करें : (0141-2711964)

 

Get 90% OFF On All 1 Year Hosting Plan Buy Now
लेटेस्ट अपडेट पाने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करें Subscribe Now
अब आप  फॉलो को Google News App पर Follow Now
कैसा लगा हमारा ये आलेख, अगर आपको अच्छा लगे तो अपने दोस्तों के साथ इस पोस्ट को शेयर जरूर करें

Leave a Comment

You cannot copy content of this page